murali-kartik

भारतीय स्पिनर मुरली कार्तिक न चाहते हुए भी इंग्लिश काउंटिंग मैच में दर्शकों के उपहास का केंद्र बन गए. गुरुवार को सरे की ओर से गेंदबाजी करते समय कार्तिक समरसेट के बल्लेबाज एलेक्स बारो के क्रीज से बाहर निकलने पर अचानक रुक गए और एक्शन लेने से पहले ही गिल्लियां गिराकर बारो को रन आउट कर दिया.

कार्तिक ने दो गेंद पहले ही बारो को चेतावनी दी थी. अंपायर पीटर हार्टले ने इस पर सरे के कप्तान ग्र्रेथ बेटी से यह फैसला वापस लेने के लिए कहा था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया. बारो के इस तरह आउट दिए जाने पर स्टेडियम में मौजूद दर्शकों ने कार्तिक का उपहास उड़ाना शुरू कर दिया. इस संबंध में कार्तिक ने ट्वीट किया कि अगर चेतावनी देने के बाद भी बल्लेबाज क्रीज से बाहर निकलता है तो क्या इसे खेल भावना के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में इस तरह की घटनाएं हो चुकी हैं. फरवरी में भारत के कप्तान वीरेंद्र सहवाग ने श्रीलंका के बल्लेबाज लाहिरू थिरिमाने को इस तरह आउट करने के बाद फैसला वापस लिया था.
यह मांकडि़ंग क्या है
चेतावनी देने के बावजूद गेंदबाज के एक्शन लेने से पहले ही गेंदबाजी छोर पर अगर बल्लेबाज क्रीज से बाहर निकले और ऐसे में गेंदबाज गेंद फेंकने की जगह गिल्लियां उड़ा दे तो बल्लेबाज को रन आउट माना जाता है. पारंपरिक तौर पर इस तरह से बल्लेबाज को आउट करना सही नहीं होता और क्रिकेटिया भाषा में इसे ‘मांकडि़ंगÓ के तौर पर जाना जाता है. 1947 में सिडनी में भारत के दिग्गज बल्लेबाज वीनू मांकड़ पहली बार इस तरह आउट हुए थे और उन्हें इस संबंध में कोई चेतावनी भी नहीं मिली थी. इस पर दिग्गज बल्लेबाज ने नाखुशी जताई थी, जिसके बाद इसे मांकडि़ंग का नाम दिया गया.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.