Pea_Dwarf-Half-Pintमटर का सब्जियों में महत्वपूर्ण स्थान है, जिसमें प्रोटीन अधिक होने के कारण भी लोग इसे ज्यादा पसंद करते हैं। इसकी खेती उत्तर प्रदेश के अधिकार जिलों में होती है और किसानों इससे मुनाफा भी लेते हैं। मटर की खेती में लगने वाले कीट व बीमारियों के कारण कई बार किसानों के सामने परेशानी खड़ी हो जाती है। इनसे छुटकारा पाने व उम्मीद से अधिक पैदावार लेने के लिए उन्हें इसकी खेती की वैज्ञानिक तकनीक का इस्तेमाल करना चाहिए।
लार्वा का आक्रमण
मटर की पत्तियों पर इसके लार्वा का आक्रमण होने से पत्तियों पर सफेद रंग की टेढ़ी-मेढ़ी नालियां बन जाती है और पौधों की बढ़ोत्तरी रूक जाती है।
रोकथाम
पत्तियों पर 0.05 फीसदी मिथाइल पाराथोन का छिडक़ाव करने से इस कीट की रोकथाम की जा सकती है। यदि इसका प्रकोप दुबारा दिखाई पड़े तो इस उपचार करे 15-20 दिन के बाद फिर दोहरा देना चाहिए।
माहू
यह कीड़ा पत्तियों तथा रसदार स्थानों में रस चूसता है। इसके बदले में ये चिपचिपे तरल पदार्थ का भारी मात्रा में श्राव करते हैं। जिससे काली फफूंदी आकर्षित होती है। इसके कारण प्रकाश संश्लेषण क्रिया बुरी तरह प्रभावित होती है। वैसे माहू का आगमन जनवरी के बाद होता है।
रोकथाम
माहू का प्रकोप होने पर ही 0.05 फीसदी मैटाासिक्टॉक्स का घोल छिडक़ें। 15-20 दिनों के बाद यदि आवश्यक हो तो दोबारा छिडक़ाव किलो पांच फीसदी वाले फैनवैलेरेट का छिडक़ाव करके इस कीड़े की रोकथाम की जा सकती है।
फली बेधक कीड़े
झल्लियां फलियों में छेद करके घुस जाती है तथा इसके बीजों, दानों को नष्टï कर देते हैं। फलियों पर छोटे-छोटे छिद्रों से इसके होने का पता लग जाता है।
रोकथाम
फसल पर 0.25 फीसदी कर्बारिल का छिडक़ाव करके फली बेधक कीड़ों की रोकथाम की जा सकती है। फलियां को इस छिडक़ाव से पहले तोड़ लेनी चाहिए। या फिर छिडक़ाव के 10-15 दिनों के बाद फलियों को तोडऩा चाहिए।
एस्कोकाइटा ब्लाइट
इस रोग से पौधे मुरझा जाते हैं। पौधे की जड़ें भूरी हो जाती हैं और पत्तियों व तनों पर भूरे धब्बे पड़ जाते हैं।
रोकथाम
इसके नियंत्रण के लिए पौधे पर बैविस्टीन 50 डब्लूपी को 100 लीटर पानी में 50 ग्राम मिलाकर छिडक़ाव करें।
फ्यूरिम बिल्ट
इस रोग से मटर के पेड़ की जड़ें सड़ जाती हैं और पौधे बिना पीले हुए मुरझा जाते हैं।
रोकथाम
इस बीमारी से बचाव के लिए बैविस्टीन 50 को मिलाकर छिडक़ाव करना चाहिए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.