सपा से डील के तहत पार्टी हाईकमान के इशारे पर प्रत्याशी ने जानबूझ कर नहीं किया नामांकन पढि़ए न्यूज नेटवर्क 24 की खास खबर

kannauj - BJP and Samajwadi Partyपहले बाबू सिंह कुशवाहा को भाजपा में शामिल करने को लकर भाजपा की खूब किरकिरी हुई थी उस समय आरोप लगा था कि स्थानीय कार्यकर्ताओं की अनदेखी कर भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी बाबू सिंह कुशवाहा को भाजपा में लाए थे। चुनाव के दौरान भाजपा के विरोधी तो यहां तक कह रहे थे कि अरबों रुपए लेकर स्वास्थ्य घोटाले के आरोपी को पार्टी हाई कमान ने शामिल करवाया है। अब स्थानीय भाजपा कार्यकर्ताओं में कन्नौज को लेकर खासा रोष है। कन्नौज के भाजपा कार्यकर्ता सपा के खिलाफ पूरी तैयारी कर चुके थे। ऐन मौके तक जानबूझ कर भाजपा अपना प्रत्याशी नहीं तय कर पाई थी।  नामांकन के अंतिम दिन जगदेव सिंह यादव को अपना पर्चा भरना था लेकिन भाजपा हाईकमान के इशारे पर प्रत्याशी ने ढिलाई की और समय सीमा के अंदर पर्चा दाखिल नहीं कर पाए। बाद में भाजपा प्रत्याशी ने सपा कार्यकर्ताओं पर राह में बाधा पहुंचाने का आरोप लगा दिया। कन्नौज के स्थानीय कार्यकर्ताओं के अनुसार ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था। सूत्र बताते हैं कि कन्नौज को लेकर भाजपा अध्यक्ष में डील हो गई और प्रत्याशी ने भाजपा हाईकमान के इशारे पर अपना काम कर दिया। दिखावे के लिए सपा-भाजपा में आरोप प्रत्यारोप का दौर चला। संघ से जुड़े भाजपा कार्यकर्ताओं व बजरंगदल के कार्यकर्ताओं में कन्नौज डील को लेकर जबरदस्त गुस्सा है। कार्यकर्ताओं का कहना कि विरोध हम करें लाठी डंडे हम खाए और बड़े लोग आपस में डील कर हम लोगों को बेचकूफ बना दे। उम्मीदवार न खड़ा करने का ऐलान कर चुकी भाजपा ने नामांकन की समय सीमा समाप्त होने के कुछ घंटे पहले आनन-फानन में जगदेव सिंह यादव को डिम्पल के खिलाफ मैदान में उतारने का ऐलान किया, जो निर्धारित समय यानी तीन बजे तक नामांकन नहीं कर सके। अपने पहले ही चुनाव में हार का स्वाद चख चुकी उत्तर प्रदेश की राजनीति में ताकतवर यादव परिवार की बहू डिम्पल यादव कन्नौज लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) की उम्मीदवार के रूप में मैदान में हैं और उनका निर्विरोध चुना जाना तय है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.