मुंबई, 20 फरवरी :भाषा: बैंकिंग क्षेत्र में नए नए विशिष्ट निजी और प्राइवेट बैंकों के प्रवेश की छूट के साथ इस क्षेत्र में अनुभवी कर्मचारियों के लिए खींचतान बढ सकती है। इस संभावना के मद्देनजर रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर आर गांधी ने बैंकों को इसके लिए तैयार रहने की सलाह दी है।  सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में यूनियनों के दबदबे के बीच कर्मचारियों के नौकरी छोडऩे की दर काफी उूंची है।  गॉंधी ने आज कहा, ”हम बैंकों से कह रहे हैं कि लोग एक संस्थान से दूसरे संस्थान में छलांग लगाएंगे। पुराना कैडर बनाने और उसने जीवन भर आपसे जुड़ा रहने का तरीका बदल रहा है। नौकरी छोडऩा एक चलन हो जाएगा।ÓÓ  सेबी प्रबंधित राष्ट्रीय प्रतिभूति बाजार संस्थान की एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा कि उन्हें लगता है कि बैंकिंग क्षेत्र में उूंची विशेषज्ञता की मांग बढ़ेगी।  हालांकि, उन्होंने कहा कि रिजर्व बैंक के पास नौकरी बदलने वालों के संबंध में ताजा ब्योरा नहीं है। लेकिन आने वाले दिनों में नए बैंकों के आने के साथ अनुभवी हाथों की मांग बढ़ेगी।

116228

 

 

 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.