अनिल कुमार सिन्हा को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के नये चीफ बनाये गये हैं। प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने श्री सिन्हा के नाम पर अंतिम मुहर लगा दी। बक्सर के मूल निवासी अनिल कुमार सिन्हा सीबीआइ के निदेशक रंजीत सिन्हा की जगह लेंगे। अनिल कुमार सिन्हा बिहार कैडर के 1979 बैच के आइपीएस अधिकारी हैं।

रंजीत सिन्हा के बाद अनिल कुमार सिन्हा दूसरे बिहारी अधिकारी हैं, जिन्हें सीबीआइ के निदेशक बनने का अवसर मिला है। गौरतलब हैं कि रंजीत सिन्हा को 2जी स्पेक्ट्रम घोटाला मामले की जांच में उच्चतम न्यायालय द्वारा जांच से दूर रहने का निर्देश दिए जाने के बाद वह विवादों के बीच सेवानिवृत्त हुए हैं।

एक सरकारी अधिसूचना में बताया गया है कि सिन्हा का कार्यकाल पदभार संभालने की तारीख से दो साल का होगा।

अनिल कुमार सिन्हा वह प्रख्यात साहित्यकार आचार्य शिवपूजन सहाय के नाती हैं। इसके पहले श्री सिन्हा केंद्रीय सर्तकता आयोग में पदस्थापित रहे हैं। वह धनबाद में एसपी भी रह चुके हैं। बिहार में श्री सिन्हा एडीजी निगरानी, विधि व्यवस्था के पद पर काम कर चुके हैं पीएम नरेंद्र मोदी ने सीबीआइ के अगले निदेशक का नाम तय करने को लेकर मंगलवार को चीफ जस्टिस  एच एल दत्तू व लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकाजरुन खडगे से चर्चा की।

रंजीत सिन्हा सीबीआई निदेशक के तौर पर अपने दो साल के उथल पुथल भरे कार्यकाल के बाद आज सेवानिवृत्त हो गए. उनका यह कार्यकाल विवादास्पद मोड़ पर जाकर खत्म हुआ।anil-sinha-11

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.