6सेंवढ़ा में बहिष्कार का निर्णय हुआ फेल
खमरोली पंचायत के पांच ग्रामों द्वारा मतदान बहिष्कार का निर्णय एन वक्त पर बदल लिया गया। इसके लिए सेंवढ़ा एसडीएम केके पांडे एसडीओपी एमपी शर्मा का विशेष प्रयास रहा इसके अलावा पंचायत सरपंच श्रीमती रामकली बघेल के पति रिशपाल बघेल भी प्रशासन के आव्हान पर मतदाताओं से बोट डालने की मांग करते रहे। पंचायत के पांच ग्रामों में मिल कर कुल 15 फीसदी मतदान हुआ।
मतदान केंद्र खमरोली में जहां खमरोली और ढिमरपुरा के मतदाताओं ने मत का प्रयोग किया यहां कुल 794 मतों के मुकाबले 68 मत डले। नाराज मतदाताओं ने लाख समझाइश के बाद भी कम मतदान कर अपना रुख स्पष्ट किया। इसके अलावा इसी पंचायत के ग्राम ढोंगरपुर मतदान केंद्र पर 217 के मुकाबले 81 एवं मदनपुरा मतदान केंद्र पर 467 के मुकाबले महज 78 मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया। इसके अलावा विधानसभा चुनाव में जिन चार मतदान केंद्रों पर बहिष्कार हुआ था वहां भी मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया।
सेंवढ़ा में भी हुआ कम मतदान
सेंवढ़ा नगर में महज 42 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। जबकि विधानसभा चुनाव में मतदाताओं द्वारा 68 प्रतिशत मतदान हुआ था। सेंवढ़ा नगर मेंं मतदान के प्रतिशत में आई गिरावट के पीछे राजनैतिक दलों की उदासीनता मुख्य जिम्मेदार रही
आंधी पानी ने बिगाड़े हालात
सेंवढ़ा में दोपहर 12 बजे आए तेज पानी और आंधी ने जनजीवन अस्त व्यस्त कर दिया। इसके चलते किसानों को अपने अपने खेतों में पड़ी फसल को बचाने के चक्कर में खेतों पर निकल गए। इसके बाद पोलिंग बूथों पर भीड़ न के बराबर हो गई। मौसम के मिजाज ने मतदान के के प्रतिशत को गिराने में प्रमुख योगदान दिया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.