नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा है और वह लगातार युद्धविराम का समझौता तोड़ रहा है। मंगलवार को सातवें दिन भी पाकिस्तान की ओर से सीमा पर गोलीबारी का सिलसिला जारी है। आज हुई फायरिंग में एक भारतीय जवान शहीद हो गया और चार अन्य ज़ख़्मी हो गए। भारतीय सेना ने भी मजबूरी में फायरिंग का जवाब दिया है। इस मामले को लेकर भारत चिंतित है और चर्चा के लिए भारतीय सेना ने ब्रिगेड कमांडर स्तर की फ्लैग मीटिंग बुलाने के लिए संदेश भेजा है। पिछले कुछ दिनों में पाकिस्तान की ओर से हुई फायरिंग में अब तक भारत के तीन जवान शहीद हुए हैं और 8 घायल हुए हैं। शहीद होने वालों में एक जवान बीएसएफ का है।   सेना के वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि भारतीय सेना ने पुंछ सेक्टर में युद्वविराम के समझौते को तोड़ने और बढ़ती गोलीबारी के मुद्दे पर चर्चा के लिए पाकिस्तानी सेना को हॉटलाइन पर फ्लैग मीटिंग के लिए संदेश भेज दिया है। पाकिस्तान से कहा गया है कि वे दो दिनों में बैठक के समय के बारे में जानकारी दें। सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘यह मुद्दा गंभीर है क्योंकि पाकिस्तानी सैनिकों की तरफ से की गई गोलीबारी में हमारे जवान शहीद हुए हैं।’  यह बैठक इस मायने में भी अहम है कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच अगर किसी मुद्दे पर चर्चा की जरुरत होती है तो सामान्य तौर पर नियंत्रण रेखा के पास कमांडेंट स्तर की बैठक होती है। लेकिन इस बार भारतीय सेना ने ब्रिगेड कमांडर स्तर की बैठक बुलाई है।    लेकिन पाकिस्तान इस मुद्दे को लेकर कितना गंभीर है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 16 जून को पुंछ के चकन-दा-बाग में होने वाली फ्लैग मीटिंग में बिना कुछ बताए पाकिस्तान नदारद रहा। पाकिस्तानी सैनिकों ने इस बार युद्धविराम तोड़ते हुए सीधे तौर पर पुंछ में सीमा की रक्षा कर रहे जवानों पर गोलियां चलाईं जबकि वे पहले चौकियों को निशाना बनाते थे।
हैवी मशीन गन, मोर्टार और ग्रेनेड से लैस पाकिस्तानी सैनिकों ने 12 फॉरवर्ड पोस्ट से पुंछ जिले के कृष्णघाटी में मौजूद नियंत्रण रेखा पर भारतीय चौकी पर गोलियां चलाईं थीं। सेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तान के इस उकसाने वाले कदम के बावजूद भारतीय सेना ने धैर्य रखा और पाकिस्तानी सेना के पास यह संदेश भेजा है कि पूरे मामले की जांच कराएं। हालांकि, पाकिस्तान अपनी हरकत से बाज नहीं आया और संदेश का सकारात्मक जवाब देने की जगह 13 जून को फायरिंग की जिसमें एक जवाब शहीद हो गया था जबकि तीन अन्य ज़ख़्मी हुए थे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.