पिछले साल की तरह इस बार भी बोर्ड परीक्षाओं में फर्जी कक्ष निरीक्षक एवं विषय विशेषज्ञ ही ड्यूटी करते नजर आएंगे. ऐसा इसलिए है क्योंकि विभाग के पास सभी कॉलेजों के शिक्षकों का ब्यौरा उपलब्ध नहीं है. ऐसे में जिस शिक्षक का विषय स्कूल प्रशासन लिखकर भेजेंगे उसी आधार पर पहचान पत्र जारी कर दिया जाएगा. इसके अलावा राजधानी के जिला विद्यालय निरीक्षक पीसी यादव ने पिछले वर्ष के बनाए गए शिक्षकों के पहचान पत्र को भी मान्य कर दिया है. उनका कहना है कि परीक्षा में करीब 3900 कक्ष निरीक्षक लगाए जाने हैं. इतने कम समय में सभी के पहचान पत्र बनना संभव नहीं है. इसलिए पिछले साल वाले आई कार्ड मान्य होंगे. उनका दावा है कि करीब चार हजार शिक्षकों का ब्यौरा मौजूद है. उनका पहचान पत्र जारी किया जा रहा है. जो रह गए हैं वो अपने शिक्षकों की उपस्थिति का रजिस्टर, विषय प्रमाण पत्र देकर बनवा लें|

14_03_2014-14azm8c-c-2

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.