सामान्य डिग्री से ज्यादा प्रोफेशनल कोर्सो को महत्व

युवाओं ने बेरोजगारी से बचने के लिए दिया प्रोफेशनल कोर्सो कोे महत्व

सरकारी तथा गैर-सरकारी वि•ाागों में नहीं है रोजगार

प्रोफेशनल कोर्सो से आसानी से मिल जाती है नौकरीं

अच्छी आय के साथ उज्जवल •ाविष्य की दिखती है राह

नौकरीं के लिए विशेष योग्यता को सर्वधिक महत्व

पीयूष

लखनऊ। शिक्षा के क्षेत्र में आज छात्रों का इसके प्रति नजरियां परिवर्तित हो चुका है। छात्रों को विश्वविद्यालयोंसे स्नातक और परास्नातक कर उन्हे डिग्रीयां तो दी जा रही है लेकिन •ाविष्य में उन्हे क्या करना है इसकानिर्धारण करने में वह सक्षम नहीं हो पा रहे। जिससे •ाविष्य के प्रति चिन्ताएं •ाी सामने आ रही है। रोजगारऔर अन्य स्थानों पर प्रोफशनल कोर्स के छात्रों को ज्यादा महत्व दिया जा रहा है जिससे सामान्य डिग्री धारक छात्रों को अनदेखी का सामना करना पड़ता है। इसलिए ही आज युवाओं ने सामान्यडिग्री की अपेक्षा प्रोफेशनल कोर्सो को अधिक महत्व देना शुरू कर दिया है। इसका साक्ष्य प्रमाण यह है कि प्रदेश के कई डिग्री कालेजो में बीए सहित कई अन्य पाठयक्रमों में छात्र दाखिले नहीं ले रहेहै। जिससे अ•ाी •ाी इन पाठयक्रमों की सीटे खाली पड़ी है। युवाओं ने यह कदम इसलिए उठाया है कि आज जितनी •ाी नेशनल और मल्टीनेशनल कम्पनियां है उनमें चयन प्रक्रिया केसाथ-साथ शैक्षिक योग्यता का मूलरूप •ाी बदल गया है। पहले किसी •ाी कम्पनी में क्लर्क के पद के लिए किसी •ाी विषय से स्नातक या विशेष शैक्षिक योग्यता पर कामर्स पाठयक्रम कोमहत्व दिया जाता था। आज उसी पद के लिए चयन करने की प्रक्रिया बिल्कुल बदल चुकी है। पद के आवेदन के लिए उस व्यक्ति की स्नातक के साथ-साथ सीए पाठयक्रम को अन्य पाठयक्रमों सेज्यादा महत्व दिया जाता है। इसके साथ ही बाहर से आयी बडी-बड़ी मल्टीनेशनल प्रोफेशनल कम्पनियों में काम करने के तौर-तरीके •ाी बिल्कुल अलग है जिसके लिए किसी प्रोफेशनल कोर्स सेपढ़ाई करना बेहद जरूरी है। बेरोजगारी और सरकारी संस्थानों में रोजगार और खाली पद न होने के कारण युवाओं ने अपना रूख इन कोर्सो की तरफ कर दिया है।

पहले जिस तरह सामान्य स्नातक की डिग्री होने मात्र से ही किसी •ाी पद पर आसानी से युवा आसीन हो जाते थे वहीं आज हर क्षेत्र में विशेष योग्यता को महत्व दिया जा रहा है। जैसे एक बीसीएऔर बीबीए का छात्र ही बिजनेस मैनेजमेंट के क्षेत्र में रोजगार प्राप्त कर सकता है। एक बीफार्मा किया हुआ छात्र ही सिर्फ मेडिकल वि•ााग में आवेदन कर सकता है तथा एक मॉस कॉम कियाहुआ छात्र ही जर्नलिज्म के क्षेत्र में अपना •ाविष्य बना सकता है। ऐसी चयन प्रक्रिया होने से ही आज शिक्षा के क्षेत्र में युवाओं ने प्रोफेशनल कोर्सो में रूचि दिखायी है।

प्रोफेशनल कोर्सों के माध्यम से आज युवाओं को रोजगार पाने में काफी मदद मिल रही है। जिसको देखते हुए ही प्रोफशनल कोर्सो में ज्यादा आवेदन किये जा रहे है। जिन प्रोफेशनल कोर्सो की तरफयुवाओं का रूझान बढ़ा है उनमें मॉस काम्युनिकेशन, एविएशन, टूरिज्म, होटल मैनेजमेंट, फैशन डिजाइनिंग, एनिमेशन, मरीन इंजीनियरिंग, बीटेक, बीसीए और अन्य कोर्स है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.