ओडिशा, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु के लिए अगले 36 घंटे बहुत महत्वपूर्ण हैं। इन राज्यों में चक्रवाती तूफान पेथाई आ सकता है। मौसम विभाग की चेतावनी है कि इन राज्यों के तटों पर ये तूफान टकराने की आशंका है। उत्तर और उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहा ये तूफान 17 दिसंबर को ओंगोल और काकीनाडा के तट से टकराने की आशंका है। बंगाल की खाड़ी में बने चक्रवात के कारण बादल छाए हुए हैं। इसके साथ ही उत्तर की तरफ से आ रही ठंडी हवाओं के कारण सर्दी में भी इजाफा हुआ है। हालांकि, मौसम विभाग ने ये भी कहा है कि आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों से टकराने के बाद तूफान कमजोर पड़ सकता है।

मौसम वैज्ञानिकों ने किसानों को धान को ढांक कर रखने की सलाह दी है। तूफान के असर से किसानों को तूफान के असर से हो भारी नुकसान भी हो सकता है। गौरतलब है कि धान खरीदी के चलते बड़ी मात्रा में धान मंडियो में खुला पड़ा है, वहीं अधिकांश किसानों ने धान अभी बेचा नहीं है तो उनके भी धान खुले में रखे हुए हैं। फिलहाल समंदर से मछुआरों को लौटने के लिए कहा गया है। कुछ माह पहले तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश में तूफान ‘गाजाÓ ने भारी तबाही मचाई थी। तूफान की वजह से 22 लोगों की मौत हो गई थी। जिसके बाद राज्य में राहत और बचाव कार्य युद्ध स्तर पर चलाए गए थे। दो महीने की बात करें तो पेथाई इस क्षेत्र में आने वाला तीसरा तूफान है। इससे पहले तितली और गाजा काफी तबाही मचा चुके हैं। नवंबर में आए गाजा तूफान ने 45 जानें ली थीं और करीब 1.17 लाख घरों को तबाह किया था। अक्टूबर में आए तितली तूफान ने ओडिशा में 57 जानें ली थीं। मौसम विभाग के अनुसार इस तूफान की वजह से 16 से 18 दिसंबर के बीच आडिशा के तटीय इलाकों में सामान्य से तेज बारिश हो सकती है।

 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.