दिल्ली में एनकाउंटर के बाद दबोचा गया संदिग्ध आतंकी मोहम्मद मुस्तकीम खान उर्फ यूसुफ ने कुछ चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। उसने पुलिस को बताया कि वह दिल्ली और यूपी में धमाके करने की साजिश रच रहा था। यह भी माना जा रहा है कि राम मंदिर निर्माण को लेकर भी यह मॉड्यूल ब्लास्ट करना चाहता था। जिसके लिए इसे अफगानिस्तान में मौजूद इसके आकाओं के जरिए दिशा-निर्देश दिए जा रहे थे।

स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा का कहना है कि अभी उसके और इस पूरे मॉड्यूल के निशाने पर दिल्ली को दहलाने और लोन वुल्फ अटैक की तैयारी करने के अलावा और क्या था, इसकी जांच की जा रही है। यह पूछे जाने पर कि क्या राम मंदिर को लेकर भी ये कुछ करने की फिराक में था तो डीसीपी का जवाब था कि हम सभी कोणों से जांच कर रहे हैं। चूंकि यह पूरी तरह से जांच में सहयोग नहीं कर रहा है, इसलिए जांच पूरी होने के पहले इससे निशाने पर क्या था, यह कहना मुश्किल है।

बहरहाल अब पूछताछ में उससे यह जानने की कोशिश की जा रही है कि राजधानी के किन-किन इलाकों में उसने रेकी की? कौन सा बड़ा चेहरा इस आतंकी के निशाने पर था? कौन उसकी मदद कर रहा था? इन सवालों को लेकर संदिग्ध आतंकी से लगातार पूछताछ की जा रही है।

5 साल से ISIS से जुड़ा था
आतंकी यूसुफ करीब 4-5 सालों से ISIS से जुड़ा हुआ था और इसे पकड़ने के लिए स्पेशल सेल पिछले 1 साल से कोशिश कर रही थी। पुलिस की गिरफ्त में आए ISIS के 36 वर्षीय आतंकी की पहचान उत्तर प्रदेश के बलरामपुर के रहने वाले मुस्तकीम खान उर्फ यूसुफ उर्फ अबू यूसुफ के रूप में हुई है। स्पेशल सेल की टीम ने इसे शुक्रवार देर रात धौला कुआं रिंग रोड के पास मुठभेड़ के बाद पकड़ा है।यह दिल्ली के किसी अधिक भीड़भाड़ वाले इलाके में हमले की योजना बना रहा था।

आतंकी के घर में मिला विस्फोटक, पूरा गांव सील कर हुई तलाशी
आतंकी अबू युसूफ बलरामपुर जिले (उत्तर प्रदेश) के उतरौला कोतवाली क्षेत्र के बढ़या भैसाही गांव का रहने वाला है। यह बात सामने आते ही एटीएस ने बलरामपुर पुलिस के साथ पूरे गांव को सील कर तलाशी ली। अचानक हुई इस कार्रवाई से गांव में हड़कम्प मच गया। गांव में युसूफ नाम का कोई व्यक्ति ही नहीं था। पर, इस कार्रवाई से ही पता चला कि गांव का मुस्तकीम ही आईएसआईएस संगठन में यूसूफ नाम से जुड़ा हुआ था। करीब तीन घंटे की तलाश के बाद एटीएस को उसके घर से भारी मात्रा में विस्फोट मिला। इसके बाद ही पुलिस ने उसकी पत्नी व परिवार के अन्य सदस्यों को हिरासत में ले लिया। फिर घर को सील कर पूरी टीम लौट गई। एहतियात के तौर पर गांव में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.