1
दतिया । दतिया जिले को जल्द ही वेटनरी कॉलेज के रूप में एक बड़ी सौगात मिलेगी। इसके लिए गंभीरता के साथ जमीन की तलाश की जा रही है। यह कॉलेज जिले के पशु पालक किसानों के लिए खुशहाली लेकर आएगा। यह बात लोक स्वास्थ्य, एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने शनिवार को यहां डाइट परिसर में स्कूल चलें हम अभियान के तहत आयेाजित हुई खंड स्तरीय कार्यशाला में कही। उन्होंने सभी पढ़ने योग्य बच्चों को शाला से जोड़ने का आव्हान भी इस मौके पर किया। साथ ही सरकारी स्कूलों के बच्चों को गणवेश के लिए चार-चार सौ रूपये के चैक व निशुल्क पुस्तकें भी बांटी। कार्यक्रम की अध्यक्षता नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती कृष्णा कुशवाहा ने की।
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मिश्र ने यह भी कहा कि पिछले पांच साल के दौरान जिले में शिक्षा के लोकव्यापीकरण के लिए ऐतिहासिक काम हुए हैं। जिनमें स्कूल भवनों का निर्माण, नए स्कूल व स्कूलों का उन्नयन तथा खेल सुविधाओं का विस्तार जैसे कार्य शामिल हैं। इसी तरह दतिया जिले को मेडिकल कॉलेज के रूप में बड़ी सौगात मिलने जा रही है। इसी कड़ी में दतिया जिले में वेटनरी कॉलेज स्थापित किया जाएगा। जिससे दुग्ध उत्पादन को बढावा मिलेगा और जिले के पशुपालक किसान समृद्ध होंगे।
इस मौके पर डॉ. मिश्र ने कहा कि स्कूल चलें हम अभियान की सार्थकता तभी है, जब दूसरों के घरों में काम करके कमाने वाली महिला व खेतीहर मजदूर बच्चों सहित पन्नी बीनने वाले बच्चे स्कूलों में दाखिल हों। सरकार ने इसी मकसद इस अभियान को समाज की भागीदारी से जन आन्दोलन बनाने की पहल की है। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों के बच्चों को निशुल्क गणवेश, पाठ्य पुस्तकें व साइकिल प्रदान कर रही है। आरंभ में अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यशाला का शुभारंभ किया।
कार्यक्रम में स्थानीय बोली में स्कूल चलें हम अभियान पर केन्द्रित लोकगीत प्रस्तुत किए गए। कार्यक्रम में जिला स्तरीय अंत्योदय समिति के उपाध्यक्ष डॉ. रामजी खरे सहित सर्वश्री पंकज शुक्ला, मुकेश यादव, बृजमोहन शर्मा, अशोक सिजरिया, राकेश भार्गव, श्रीमती कुसुम त्रिपाठी, गुडडी साहू व बीर सिंह यादव तथा अन्य प्रतिनिधिगण मंचासीन थे। साथ ही जिला शिक्षा अधिकारी श्री के.जी शुक्ला व एसडीएम श्री कमलेश भार्गव भी इस मौके पर मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन व्याख्याता श्री मनोज द्विवेदी ने किया।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.