वाशिंगटन, 20 फरवरी :भाषा: यदि जलवायु परिवर्तन की वजह से मौसम में आने वाले बदलावों को रोकने के लिए जल्द उपाय नहीं किए गए, तो दुनिया का गेहूं का उत्पादन आगामी दशकों में एक-चौथाई घट सकता है। शोधकर्ताओं ने यह चेतावनी दी है। शोधकर्ताओं ने पाया कि प्रत्एक एक डिग्री सेल्सियस तापमान बढ़ोतरी से गेहूं के उत्पादन में छह प्रतिशत की गिरावट आएगी। खाद्य क्षेत्र के बारे में अमेरिका के कंसास विश्वविद्यालय के केंद्र इंटरनेशनल डेवलपमेंट फीड के निदेशक भारतीय मूल के वैज्ञानिक वारा प्रसाद भी इस परियोजना पर शोध करने वाली टीम में शामिल हैं।  प्रसाद और उनके सहयोगियों ने कहा कि 2012-13 में वैश्विक स्तर पर 70.1 करोड़ टन गेहूं उत्पादन के आधार पर यह निष्कर्ष निकला है कि तापमान में बढ़ोतरी से गेहूं उत्पादन में 4.2 करोड़ टन की कमी आएगी। या फिर गेहूं उत्पादन में नुकसान एक-चौथाई का बैठेगा।

wheat-265_1335500455

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.