बान्द्रा सिनेमैक्स, मुंबई में दोपहर का शो, गुलाब गैंग। थियेटर में मौजूद दर्शकों में लगभग 80 प्रतिशत महिलायें। हँसती, खिलखिलाती, चुहल करती, तालियाँ बजाती स्कूल-कॉलेज की लड़कियाँ, घर का काम निपटाकर या छोड़कर फिल्म देखने पहुँची आंटियां, ऑफिस से लंच टाइम के बाद निकली महिला कर्मचारी आदि, आदि। ये सब इकट्ठा हुई थीं गुलाब गैंग के लिये। खास बात ये कि इन महिलाओं के साथ कोई पुरुष नहीं था। जो इक्का दुक्का पुरुष दिख रहे थे वो या तो अकेले थे या कुछ पुरुष दोस्तों के साथ। महिला दिवस के दिन जब इतनी सारी महिलाओं को खुश देखा तो लगा रोशनी तो है लेकिन बस कुछ और अंधेरों को मिटाना बाकी है। फिल्म गुलाब गैंग में माधुरी और जूही की बेहतरीन अदाकारी तो है ही साथ में सुमधुर संगीत और सटीक संवाद भी है। महिला सशक्तिकरण को केन्द्र में रखकर बनायी गई इस फिल्म को एक बार तो जरुर देखना चाहिए।sss

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.