modi98नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता की रोजमर्रा की जरुरतों को पूरा करने तथा उनकी समस्याओं को सुलझाने के लिए आईआईटी छात्रों को नए आविष्कार करने का आहवान किया है। मोदी ने आज यहां राष्ट्रपति भवन में आईआईटी के अध्यक्षों तथा निदेशकों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह बात कही। सम्मेलन का उद्घाटन राष्ट्रपति ने किया। यह पहला मौका है जब राष्ट्रपति भवन में आईआईटी के निदेशकों तथा अध्यक्षों की बैठक हो रही है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि आईआईटी के छात्रों को जनता की स्थानीय जरुरतों से जुड़ी हुई परियोजनाएं दी जानी चाहिए ताकि वे उनकी रोजमर्रा की आवश्यकताओं और समस्याओं को सुलझा सकें। ऐसा करने से लोंगों के जीवन स्तर में भी बदलाव आएगा और इस तरह राष्ट्र की सेवा भी हो सकेगी। उन्होंने कहा कि आईआईटी के प्रतिभाशाली छात्र अपनी पढ़ाई के दौरान ये आविष्कार कर सकते हैं।
उन्होंने कई उदाहरण देते हुए कहा कि भारत अभी भी निर्यात पर निर्भर है चाहे वह रक्षा उपकरण हों या चिकित्सा तथा स्वास्थ्य से संबंधित उपकरण या फिर आंसू गैस तथा स्याही गैस जैसे सुरक्षा उपकरण। प्रधानमंत्री ने कहा कि वह इस बात को नहीं मान सकते कि भारतीय छात्रों के पास ऐसी प्रतिभा नहीं कि वे इन चीजों का निर्माण न कर सके। उन्होंने कहा कि आज आईआईटी के सामने इसी तरह की चुनौतियां हैं। आईआईटी छात्रों में जीवन की कला तथा चिन्तन का विकसित करें।
प्रधानमंत्री ने आईआईटी को सभी लोगों के लिए पर्यावरण के अनुकूल सस्ते तथा मजबूत घर बनाने का सपना पूरा करने में योगदान करने को कहा। उन्होंने यह भी कहा कि आईआईटी रेलवे क्षेत्र में भी यात्रियों की जरुरतों के अनुकूल चीजें बना सकती हैं। मोदी ने आईआईटी को अपने निकटवर्ती इंजीनियरिंग कालेजों को गोद लेने का सुझाव दिया ताकि वह उनका मार्गदर्शन कर सकें तथा उन्हें भी स्थानीय जरुरतों की चीजें पूरा करने के लिए प्रेरित किया जा सका।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.