wing commander sameerगुरुवार को गुजरात के जामनगर में दो हेलीकॉप्टरों की टक्कर में मारे गए नौ वायुसेनाकर्मियों में लखनऊ निवासी विंग कमांडर समीर का शव अंतिम यात्रा के लिए सरोजनीनगर स्थित उनके घर तक नहीं पहुंच सकेगा.
शुक्रवार रात उनका और गोरखपुर के सार्जेंट हरिकृष्ण का पार्थिव शरीर वायुसेना के विमान से लखनऊ लाया गया. क्षत-विक्षत होने के कारण शव मध्य कमान अस्पताल की मच्र्युरी में भेजा गया. शनिवार सुबह समीर के परिजन अस्पताल में ही अंतिम दर्शन कर वहीं से शवयात्रा निकालेंगे. समीर उन चुनिंदा फाइटर पायलटों में से थे, जो धुंध और खराब मौसम में दो सौ मीटर की विजिबिलिटी तक उड़ान भर सकते थे. जामनगर हादसे में कांगड़ा जिले के बैजनाथ (जंडपुर गांव) के विंग कमांडर आशीष शर्मा की भी मौत हुई है. आशीष जंडपुर निवासी सुरेश राज शर्मा के छोटे बेटे थे. सुरेश भी एयरफोर्स से सेवानिवृत्त हैं और फिलहाल वे लोगों व स्कूली बच्चों को आपदा प्रबंधन का निशुल्क प्रशिक्षण प्रदान कर रहे हैं. शनिवार को आशीष का शव पठानकोट से जंडपुर लाया जाएगा. शनिवार को सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.