guwahati girl molestersगुवाहाटी| गुवाहाटी में बीच सड़क पर सरेआम लड़की की इज्जत से खिलवाड़ करने वाले 20 लोगों में से अब तक सिर्फ 4 ही गिरफ्तार किए जा सके हैं। भारी दबाव के बीच पुलिस ने इन लोगों की गिरफ्तारी के लिए कई जगहों पर छापेमारी की, लेकिन कुछ भी हाथ नहीं लगा। वैसे, विडियो से पुलिस 13 आरोपियों की ही पहचान कर पाई है। सूत्रों का कहना है कि कल मीडिया में पूरा मामला उछलने और शहर में आरोपियों के फोटो लगाए जाने के बाद वे राज्य से ही फरार हो गए हैं। इसी बीच महिला ओयग की टीम गुवाहाटी पहुंच गई है।

गौरतलब है कि सोमवार को अपनी सहेली की बर्थडे पार्टी से घर लौट रही लड़की के साथ ऐसी बदसलूकी की गई थी जिससे इंसानियत शर्मशार हो गई। करीब 20 लड़कों ने पहले लड़की से छेड़छाड़ की और फिर उसे सड़क पर सरेआम निर्वस्त्र करने की कोशिश की। पूरा मामला पांच दिनों बाद यूट्यूब पर विडियो अपलोड किए जाने के बाद दुनिया के सामने आया और इसके बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज की। मुख्‍यमंत्री तरुण गोगोई ने शुक्रवार को इन आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए 48 घंटे का अल्‍टिमेटम दिया था। आरोपी लड़कों में एक अमरज्योति राज्य सरकार की आईटी एजेंसी एमट्रॉन का कर्मचारी था। घटना के बारे में पता चलने के बाद कंपनी ने अमरज्योति को नौकरी से निकाल दिया।

इस बीच, टीम अन्ना के सदस्य अखिल गोगोई ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में आरोप लगाया कि यूथ कांग्रेस का एक नेता भी छेड़खानी और मारपीट की घटना में शामिल है। गोगोई ने कहा कि इस संबंध में उनके पास सबूत भी है। उनके पास एक विडियो है जिसे वह डीजीपी को सौंपने के बाद सबके सामने लाएंगे। गोगोई ने मांग की है कि इस मामले की निष्पक्ष जांच मुख्‍यमंत्री या राज्‍य सरकार नहीं करा सकती है लिहाजा इसकी जांच सीबीआई को सौंपनी चाहिए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.