– कैब की बैठक में र खा जाएगा प्रस्ताव
– 18 फरवरी को आयोजित होगी कैब की बैठक 
 उत्तर प्रदेश टेक्निकल यूनिवर्सिटी (यूपीटीयू) की ओर से अपने इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट कॉलेजों में एडमिशन के लिए आयोजित होने वाले उत्तर प्रदेश राज्य स्तरीय संयुक्त प्रवेश परीक्षा यूपीएसईई-2015 के लिए शासन ओर से नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है. इसी के साथ ही यूपीटीयू मंडे से एसईई की परीक्षा आयोजित कराने, आवेदन प्रक्रिया शुरू कराने के लिए सेंट्रल एडमिशन बोर्ड कैब की बैठक 18 फरवरी को आयोजित करने जा रहा है. जिसमें यूपीटीयू एसईई से जुड़ी स ाी जरूरी दिशा-निर्देशों पर विचार करेगा. साथ ही इस बार यूपीटीयू पहली बार अपने यहां स बद्ध स ाी 700 कॉलेजों के इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट कोर्सेस में थर्ड जेंडर ट्रांसजेंडर को ाी एडमिशन देने की तैयारी कर रहा है. इसके लिए यूनिवर्सिटी की 18 फरवरी को आयोजित होने वाले कैब की बैठक में इस पर मुहर लगा सकता है. एसईई के कोऑडिनेटर प्रो. जेपी सैनी ने बताया कि इसके लिए प्रस्ताव तैयार कर लिया गया कैब की बैठक में इसे मंजूरी के लिए र ाा जाएगा.बैंक और एनआईसी के साथ होगा बैठक 
एसईई के आवेदन प्रक्रिया शुरू होने से पहले कैब की बैठक में इसे जुड़े कई अहम निर्णयों पर विचार किया जाएगा. जैसे आवेदन प्रक्रिया के लिए एनआईसी के सर्वर कब से काम करेगा, साथ ही  बैंक में फीस जमा करने के लिए के लिए किस-किस माध्यम का प्रयोग किया जाएगा. इस पर विचार किया जाएगा. एसईई के कोऑडिनेटर प्रो. जेपी सैनी ने बताया कि आवेदन प्रक्रिया लग ाग अ ाी तक जो ाी होती रही है, वैसी ही होगी. इस में पहली बार बायोमैट्रिक प्रणाली के साथ-साथ बैंक में फीस जमा करने और एनआईसी के सहयोग पर विचार किया जाएगा. एनआईसी से आवेदन प्रक्रिया शुरू होने की प्रक्रिया पर मंजूरी मिलने के बाद आवेदन फॉर्म ारने की डेट जारी कर दी जाएगी.
सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर के बाद होगा शामिल 
प्रो. जेपी सैनी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से जारी किए गए ऑर्डर, जिसमें कोर्ट ने थर्ड जेंडर को मौका देने की बात कहा है. उसे इस बार एसईई के आवेदन प्रक्रिया में शामिल किया जाएगा. इसको लेकर प्रस्ताव को तैयार कर लिया गया है. कैब की बैठक में मंजूरी मिलने के बाद आवेदन प्रक्रिया की में इसका ाी ऑप्शन को शामिल कर दिया जाएगा.
4225679809_a6920a4739

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.