एयर एशिया के दुर्घटनाग्रस्त विमान का पिछला हिस्सा (टेल सेक्शन) आज जावा सागर में मिला, जिससे ये आशाएं प्रबल हो गईं कि रहस्यमय हादसे का कारण पता करने के लिए विमान का ब्लैक बाक्स जल्द ही मिल जाएगा। इंडोनेशिया के खोज एवं राहत अभियान के 11वें दिन इसके प्रमुख बाम्बांग सोइलिस्तयो ने जकार्ता में संवाददाताओं को बताया, हमें (विमान का) पिछला हिस्सा मिला है। यह खोज आज हमारा मुख्य लक्ष्य थी।

विमान के पिछले हिस्से में ही ब्लैक बाक्स होते हैं। किसी विमान हादसे की जांच में ब्लैक बाक्स को अक्सर अहम सबूत माना जाता है क्योंकि वे विमान की रफ्तार, लैंडिंग गियर की स्थिति और पायलट के संवाद के बारे में महत्वपूर्ण सूचनाएं देते हैं। सोइलिस्तयो ने कहा कि गोताखोर उसी क्षेत्र में सागर के जल के अंदर जाने की तैयारी कर रहे हैं जो खोज प्रयासों की प्राथमिकता में मुख्य है। खोजकर्ता 162 लोगों के साथ 28 दिसंबर को लापता हुए विमान का मलबा खोजने के लिए जावा सागर के जल में अभियान चला रहे हैं।

एयर एशिया समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टोनी फर्नांडीज ने अपने ट्विटर एकाउंट पर एक पोस्ट लिखकर इस घोषणा की पुष्टि की। उन्होंने ट्वीट किया कि उन्हें पता चला है कि विमान का पिछला हिस्सा मिला है। अगर पिछले हिस्से का सही भाग मिला है तो उसमें ब्लैक बाक्स होना चाहिए। अधिकारी ने कहा, हमें जल्द ही सभी भागों को खोजना है ताकि हम अपने परिजनों की पीड़ा कम करने के लिए सभी मेहमानों का पता लगा सकें। यह अब भी हमारी प्राथमिकता है। अब तक 40 शव बरामद हो चुके हैं लेकिन अधिकारियों का मानना है कि ज्यादातर यात्रियों के शव अब भी विमान के मुख्य भाग के अंदर हो सकते हैं।

मलेशियाई नौसेना के प्रमुख अब्दुल अजीज जमफम्र ने कहा कि जावा सागर में खोज एवं बचाव कार्य का दायरा आज बढ़ा दिया गया है। पानी के अंदर तेज धारा होने और क्षीण दष्यता की वजह से कल गोताखोरों को सागर तल में उस क्षेत्र में शवों तथा मलबे की तलाश करने में मुश्किल हुई जहां विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था। हादसे का कारण अभी पता नहीं चला है लेकिन विमान हादसे के समय खराब मौसम से होकर गुजर रहा था और उसने मार्ग बदलने की अनुमति मांगी थी। इंडोनेशियाई विमानन अधिकारियों ने कहा है कि एयर एशिया को हादसे वाले दिन सुराबाया-सिंगापुर हवाई मार्ग पर उड़ने की अनुमति नहीं थी।

air

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.