amit sah and azamनरेन्द्र मोदी के करीबी सहयोगी अमित शाह और समाजवादी पार्टी के आजम खान की जुबान पर आयोग ने ताला लगाने की हिदायत दी है। सख्त रुख अपनाते हुए चुनाव आयोग ने आज इन दोनों नेताओं के उत्तर प्रदेश में सार्वजनिक सभा करनेए जुलूस निकालने या रोड शो करने पर प्रतिबंध लगा दिया और अधिकारियों को उनके खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू करने को कहा है। चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव को यह भी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि भाजपा नेता अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मंत्री आजम खान ऐसी कोई कार्रवाई न करेंए जिससे सार्वजनिक शांति और कानून एवं व्यवस्था की स्थिति प्रभावित हो। अपने मंत्री आजम खान के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने पर नरम रुख अपनाने और संवेदनशील मुद्दे को तत्परता से नहीं निपटने पर चुनाव आयोग ने उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार की भूमिका को लेकर भी अलोचना की। आयोग की आज यहां हुई शीर्ष बैठक में यह सख्त रुख अपनाने का निर्णय किया गयाए ताकि चुनाव के दौरान माहौल और न न बिगडऩे पाए। इस बैठक में मुख्य चुनाव आयुक्त वीएस संपतए चुनाव आयुक्त एचएस ब्रह्मा और एसएनए जैदी ने हिस्सा लिया। चुनाव आयोग के आदेश के मुताबिकए ष्चुनाव आयोग ने संविधान के तहत निर्देश दिया है कि जरूरी प्राथमिकी तत्काल दर्ज की जानी चाहिए और अगर इन दोनों नेताओं के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू नहीं हुई है कार्यवाही शुरू हो इसमें यह भी कहा गया है कि जिला प्रशासन द्वारा सार्वजनिक सभा करनेए जुलूस निकालने या रोड शो करने आदि की इजाजत नहीं दी जानी चाहिएए जिसमें कि इन दो नेताओं के हिस्सा लेने की संभावना हो। चुनाव आयोग ने राज्य के मुख्य सचिव को शनिवार शाम पांच बजे तक उसके आदेश का अनुपालन करने का भी निर्देश दिया है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.