राजधानी दिल्ली में एक बार फिर बड़ी ही दर्दनाक कहानी सामने आई है। रोहिणी सेक्टर-8 इलाके में दो बहनों ने खुद को 8 साल से बंद कर रखा था। 40 साल की नीरज और 28 साल की ममता अपने ही घर में कैदी की तरह जी रही थीं। शुरुआती जानकारी के मुताबिक दोनों बहनें बेहद डिप्रेशन में जी रही थीं। आज जब एक रिश्तेदार ने दोनों को देखा तो फिर दोनों को अस्पताल पहुंचाया। तस्वीरों को देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि इन बहनों की क्या हालत हो चुकी है। ऐसा लगता है कि इन बहनों ने कई दिनों से खाना तक नहीं खाया है। दोनों का शरीर पूरी तरह से गल चुका है। यहां तक कि इनके शरीर में कीड़े लग चुके हैं। पड़ोसियों के मुताबिक इन बहनों को उन्होंने कभी बाहर निकलने नहीं देखा। बड़ी बहन नीरज तलाकशुदा है, इसका एक 8 साल का बेटा है, जो साथ ही में रहता है। छोटी बहन की शादी नहीं हुई है। पुलिस अब इस मामले की जांच में जुटी है कि आखिर इन बहनों की इस हालत के लिए कौन जिम्मेदार है।

 

दरअसल दोनों बहनें आठ साल से घर में कैदी कि तरह से जी रही थीं, इतनी बीमार और कमजोर कि उसे देख कर किसी कि भी रूह कांप जाए। ये दोनों बहनें मानसिक और शारीरिक रूप से पूरी तरह से बीमार हैं। जब पुलिस ने दोनों बहनों को घर से बाहर निकाला तो आसपास के लोग देखकर कांप उठे। अस्पताल प्रशासन भी इनकी हालत देख हैरान है। दोनों को अम्बेडकर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.