tiranga-with-taziaउरी हमले के बाद जब भारतीय सैनिक ने सर्जिकल स्ट्राइक कर 39 आतंकियों का मार गिराए तो पूरे भारत में राष्ट्रभक्ति का संदेश जोर शोर से मनाया गया। हर एक भारतीय लोगों के लिए अपने गर्व की बात रही। और वह दिन सभी भारतीय के लिए खुशी का दिन रहा। राम जन्म भूमि के अयोध्या के पास शाहजहांपुर गांव से शनिवार को मुसलिम भाईयों ने मोहर्रम के अवसर पर निकाले गए ताजिया जुलूस भारतीय झंडा के साथ मनाया गया।

शायद इसीलिए अयोध्या से फैजाबाद तक के मार्ग पर कहीं से भी मोहर्रम का यह जुलूस निकला, तो भीड़ इसे देखने के लिए बेताब हो गई। जुलूस में ताजिया के साथ ढोल-नगाड़े भी मातमी धुन पर बजाए जा रहे थे। प्रमुख मार्ग पर आवागमन कर रहे वाहनों पर सवार लोग भी जुलूस में लहराता तिरंगा देखकर देशभक्ति के भाव से अभीभूत हुए। मोहर्रम के जुलूस में मुसलिम युवा भी अपने हाथ में तिरंगा लेकर चल रहे थे। साथ ही देशभक्ति के जज्बे को प्रदर्शित भी कर रहे थे। ऐसा पहली बार हुआ जब मोहर्रम के जुलूस में तिरंगे को भी साथ लिया गया।

इस जुलूस को अयोध्या के करीब स्थित शाहजहांपुर गांव से निकलकर अयोध्या-फैजाबाद मार्ग पर स्थित बेनीगंज, साहबगंज, रीडगंज और कोठापार्चा होते हुए टकसाल स्थित मजार पर पहुंचा। तजार पर आधे घंटे जुलूस का ठहराव हुआ। जुलूस में बड़ी तादाद में मुस्लिम धर्मावलम्बी शामिल रहे।

ठहराव के दौरान भी मुस्लिम युवाओं के हाथ में तिरंगा शान से लहराता रहा। ठहराव के बाद जुलूस फिर आगे बढ़ा और पापुलर गली, रिकाबगंज से शहर के हृदय स्थल चौक व रीडगंज, साहबगंज होते हुए शाम को फिर से अयोध्या के करीब शाहजहांपुर गांव पहुंच कर समाप्त हुआ। जब जुलूस चौक से गुजर रहा था, तब यहां हर धर्म व मजहब के लोग इसे देखकर भाव विभोर हो रहे थे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.