sahabuddin

नई दिल्ली। हाल ही में जेल से बाहर आए बिहार के बाहुबली व विवादास्पद राजद नेता शहाबुद्दीन की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। हत्या के एक मामले में पटना हाईकोर्ट से मिली जमानत को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान वकील प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि शहाबुद्दीन के खिलाफ 45 से अधिक मामले हैं, उनमें से 9 हत्या के हैं।
उन्होंने कहा कि अगर शहाबुद्दीन की जमानत रद्द नहीं की गई तो वह समाज के लिए एक गंभीर खतरा है। सुप्रीम कोर्ट में अब 28 सितंबर को सुनवाई होगी। इससे पहले शहाबुद्दीन की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी के पैरवी करने की खबर थी, लेकिन वह न्यायालय में उपस्थित नहीं थे। एक अन्य वकील ने मामले में शहाबुद्दीन की पैरवी शुरू की और कहा कि उनके मुवक्किल मीडिया ट्रायल के शिकार हो रहे हैं। उनके मुवक्किल को मीडिया निशाना बना रहा है। उन्होंने पीठ से अनुरोध किया कि मामले में जवाब के लिए उन्हें कुछ और वक्त दिया जाये, लेकिन शीर्ष अदालत ने उनसे पूछा कि क्या वह अपने मुवक्किल के खिलाफ लगाये जा रहे आरोपों के बारे में जानते हैं। न्यायालय ने कहा कि वह इस मामले की सुनवाई शीघ्र चाहता है और बुधवार तक का ही समय वह बचाव पक्ष को दे सकता है। पीठ ने कहा कि मामले की सुनवाई बुधवार को होगी।
बता दें कि सीवान के रहने वाले राजीव रौशन के पिता चंदा बाबू के हलफनामा पर  अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है। इस पर पिछले सोमवार को सुनवाई हुई थी। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने शहाबुद्दीन से 26 सितम्बर को अपना पक्ष मांगा था। वहीं, एक याचिका बिहार की सरकार ने भी याचिका दायर की है। दोनों याचिकाओं पर संयुक्त रूप से सुनवाई चल रही है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.