नई दिल्‍ली। सिविल सर्विस डे के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अफसरों को संबोधित करते हुए कहा कि अब वक्त आ गया है कि अधिकारी नीति नियंता और नियामक बनने की जगह लोगों के मददगार साबित हों। पीएम ने अफसरों से सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने को कहा। उन्होंने कहा कि आम जनमानस तक पहुंच बनाने के लिए सोशल मीडिया से बेहतर विकल्प उपलब्ध नहीं है। मोदी ने कहा, “ई-गवर्नेंस, एम-गवर्नेंस, और सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर लोगों तक पहुंच बनाएं।”
अब हमारी जिम्मेदारी और चुनौतियां दोनों पहले से ज्यादा बढ़ गई हैं
11वें सिविल सर्विस डे को मौके पर नई दिल्ली के विज्ञान भवन में पीएम मोदी ने कहा कि अफसरों के काम करने के तरीके में गुणवत्तापूर्ण बदलाव लाने की जरूरत है। लोगों को हमारे काम करने का तरीका बोझिल नहीं लगना चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछले 15-20 वर्षों में तकनीक ने हमारी कार्यशैली का तरीका बदला है। अब हमारी जिम्मेदारी और चुनौतियां दोनों पहले से ज्यादा बढ़ गई हैं।
राजनैतिक इच्छा शक्ति की बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, दृढ़ राजनीतिक इच्छा शक्ति सुधार कर सकती है लेकिन अफसरशाही और जन भागीदारी उसे नए आयाम तक पहुंचा सकती है। हमें इन दोनों शक्तियों का समावेश कर विकास की दिशा में आगे बढ़ना होगा।” पीएम मोदी ने कहा कि सुधारवादी कदम उठाने में हमारी राजनैतिक इच्छाशक्ति न कम पड़ी है और ना आगे कम पड़ेगी। पीएम ने कहा कि वो चाहते हैं कि आने वाले एक साल में वर्क क्वालिटी में बदलाव हो। उन्होंने कहा कि सिर्फ सर्वश्रेष्ठ होने से काम नहीं चलेगा। आपको सर्वश्रेष्ठ होने को अपनी आदत बनाना होगा।
जान बचाने वाले जवानों को पत्‍थर मारे जाते हैं
पीएम ने अपने भाषण में कश्मीर में चल रही गतिविधियों पर भी बयान दिया। उन्होंने कहा कि हमारे जवान कश्मीर में बाढ़ आने पर लोगों की जान बचाते हैं, लोग उनके लिए तालियां बजाते हैं लेकिन बाद में हमारे फौजी पत्थर भी खाते हैं। पीएम ने कहा कि सभी को इस पर चिंतन-मनन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि 20 साल पहले और आज की परिस्थितियों में काफी अंतर है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.