मुंबई। मुंबई क्रूज ड्रग्स केस को लेकर महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक और मुंबई एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के बीच का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। नवाब मलिक ने एनसीबी अधिकारी पर बड़ा आरोप लगाए हैं। उन्होंने दावा किया है कि समीर वानखेड़े मुस्लिम हैं और फर्जी दस्तावेजों के आधार पर उन्होंने नौकरी हासिल की है। नवाब मलिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘फर्जी दस्तावेज बनाकर कोई व्यक्ति शेड्यूल कास्ट के कोटे में अगर नौकरी हासिल करता है तो किसी गरीब का हक मारा जा रहा है तो इस लड़ाई को लेकर हमें आगे बढ़ना होगा।
महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि मुंबई में किसी भी व्यक्ति का बर्थ सर्टिफिकेट ऑनलाइन सर्च किया जा सकता है। समीर वानखेडे की बहन यासमीन का बर्थ सर्टिफिकेट ऑनलाइन अवेलेबल है लेकिन समीर वानखेडे का नहीं है हमने बहुत सर्च किया लेकिन यह सर्टिफिकेट नहीं मिला। शेड्यूल कास्ट सर्टिफिकेट वैलिडिटी कमेटी के पास यह मामला जाकर इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पिताजी के नाम का लाभ समीर वानखेड़े ने आज तक गलत तरह से लिया है, हम इसकी शिकायत करेंगें।
आज तक जितनी भी तनख्वाह ली है वो उनको वापस करनी पड़ेगी, पेंशन भी बंद होगी। सिर्फ एक मामला नहीं है, हमें लगता है कि दो शिकायत होंगी। नवाब मलिक यहीं नहीं रूके उन्होंने कहा कि मैं आह्वान करता हूं कि वानखेड़े मेरे खिलाफ मानहानि का मामला करें। मैं अपना केस लड़कर इनका फर्ज़ीवाड़ा सामने लाऊंगा… 100-200 करोड़ की बात न करें, 10% स्टैंप ड्यूटी भरनी होती है, आपके पास 2 नंबर के हज़ारों करोड़ हो सकते हैं, लेकिन स्टैंप ड्यूटी भरने का काग़ज़ नहीं होगा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.