जम्मू कश्मीर में गृह मंत्री अमित शाह के दौरे के बीच शोपियां में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच हुई क्रॉस फायरिंग में एक नागरिक की मौत हो गई है. रविवार की सुबह शोपियां के बाबापोरा इलाके में आतंकियों के साथ सुरक्षाबलों की मुठभेड़ शुरू हुई. इस दौरान गोलीबारी में एक आम नागरिक आतंकियों की गोली का शिकार हो गया, जिसकी वजह से उसकी जान चली गई. इसी के साथ घाटी में अक्टूबर में आतंकियों की गोली और उनकी दहशतगर्दी का शिकार हो चुके लोगों की संख्या 12 हो गई हैं.
इससे पहले आतंकियों ने 11 लोगों की पहचान देखकर, उन्हें मौत के घाट उतार दिया था. इसमें जम्मू-कश्मीर में बाहर से आकर रहने वाले प्रवासी मजदूर और अल्पसंख्यक समुदाय के लोग शामिल थे. पुलिस अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि सीआरपीएफ पार्टी (CRPF) द्वारा इलाके में जवाबी कार्रवाई के दौरान क्रॉस फायरिंग हुई, जिसमें एक नागरिक की मौत हो गई. पुलिस ने कहा कि जब आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी की, तब सीआरपीएफ के जवान क्षेत्र से बाहर थे. हालांकि जवानों ने आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दिया. पुलिस ने कहा कि क्रॉस फायरिंग (Cross Firing) के दौरान एक व्यक्ति की मौत हुई है.
आतंकवाद विरोधी अभियान 13वें दिन भी जारी
वहीं, जम्मू-कश्मीर के पुंछ और राजौरी जिलों में खराब मौसम के बाद भी आतंकवाद विरोधी अभियान शनिवार को 13वें दिन भी जारी रहा. पिछले हफ्ते इन जंगलों में छिपे आतंकवादियों के दो अलग-अलग हमलों में सेना के 9 कर्मी शहीद हो गए थे. अधिकारियों ने बताया कि पुंछ में मेंढर और सुरनकोट तथा राजौरी के समीपवर्ती थनमंडी के घने जंगलों में छिपे आतंकवादियों की धर-पकड़ के लिए सेना और पुलिस का संयुक्त तलाशी अभियान सावधानीपूर्वक जारी रहने के बीच दो और संदिग्ध पूछताछ के लिए हिरासत में लिए गए.
सेना के एक अधिकारी ने बताया कि जंगल के एक बड़े हिस्से को खंगाल लिया गया है और अब तलाशी अभियान उस क्षेत्र में सीमिति है जहां कई प्राकृतिक गुफाएं हैं. अधिकारी ने बताया, ’11 अक्टूबर और 14 अक्टूबर की प्रांरभिक गोलीबारी के बाद आतंकवादियों के साथ कोई सीधा आमना-सामना नहीं हुआ है. आतंकवादियों की तलाशी के लिए तलाशी अभियान का विस्तार किया गया है.’ उन्होंने उम्मीद जताई है कि मौसम सही रहने पर प्राकृतिक गुफाओं को खंगालने का काम एक-दो दिनों में पूरा हो जाएगा.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.