वाराणसी में सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी ने काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन किया. इस दौरान प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने काशी की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि हजार साल तक बाबा विश्वनाथ का धाम विपरित परिस्थितियों में रहा. सीएम ने कहा कि हजारों सालों की प्रतीक्षा पूरी हुई है. ऐसा कहा जाता रहा है कि मां गंगा या तो भगीरथ की जटाओं में उलझी या फिर काशी के मणिकर्णिका घाट पर उलझी रही, लेकिन आज प्रधानमंत्री मोदी के प्रयासों से हमको ये उपहार मिला है.
सीएम योगी ने कहा कि गांधी जी के नाम पर बहुतों ने सत्ता पाई है, लेकिन वाराणसी को स्वच्छ करने के सपने को हम सब ने साकार किया है. उन्होंने कहा, हजारों सालों की तपस्या आज सार्थक होती दिखाई दी है. एक हजार सालों से काशी ने जिन विपरीत परिस्थितियों का सामना किया उसका साक्षी हर भारतवासी रहा है. काशी में बाबा विश्वनाथ का ये धाम अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का कार्य उसी श्रृंखला को एक नया स्वरूप प्रदान करता है.
पीएम मोदी फूलों से किया मजदूरों का सम्मान
काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के निर्माण में जिन मजदूरों ने दिनरात एक कर दिया. आज पीएम मोदी ने उन सभी मजदूरों का फूलों से सम्मान किया है. पीएम मोदी ने कॉरिडोर निर्माण में शामिल मजदूरों के साथ फोटो खिंचवाई. इस दौरान उन्होंने फूलों की वर्षा कर उनका सम्मान भी किया. पीएम मोदी ने कहा, ‘हमारे कारीगर, हमारे सिविल इंजीनयरिंग से जुड़े लोग, प्रशासन के लोग, वो परिवार जिनके यहां घर थे सभी का मैं अभिनंदन करता हूं. इन सबके साथ यूपी सरकार, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी अभिनंदन करता हूं जिन्होंने काशी विश्वनाथ धाम परियोजना को पूरा करने के लिए दिन-रात एक कर दिया.’
काशी विश्वनाथ परियोजना गंगा को मंदिर से जोड़ती है
बता दें कि काशी विश्वनाथ धाम परियोजना करीब पांच लाख वर्ग फीट में फैली हुई है और गंगा नदी को काशी विश्वनाथ मंदिर से जोड़ती है और इसके अलावा श्रद्धालुओं के लिए कई सुविधाओं का विकास किया गया है. इस मौके पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और देशभर से आए साधु संत भी मौजूद रहे.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.