शुक्रवार को लांस नायक मोहिउद्दीन राठेर को हजारों नम आंखों ने विदाई दी। अनंतनाग के पंचपोरा गांव में भी मंजर कुछ ऐसा ही था लेकिन इस बार लोग किसी अलगाववादी का नहीं बल्कि सेना के शहीद जवान का मातम मनाने के लिए घरों से निकले। जनाजों में बिलखती भीड़ कश्मीर के लिए कोई अनोखा नजारा नहीं है।

नम आंखों से दी विदाई
जैसे ही तिरंगे में लिपटा राठेर का शव सेना के वाहन में गांव की मस्जिद पहुंचाया गया, भीड़ खुद-ब-खुद उमड़ पड़ी। इनमें राठेर के गांववालों के साथ आसपास के इलाकों के हजारों लोग भी शामिल थे। महिलाओं के हजूम को राठेर की पत्नी शाहजादा अख्तर (26) को सांत्वना देते हुए देखा गया। राष्ट्रीय राइफल्स के अफसरों की मौजूदगी में नमाज-ए-जनाजा पढ़ी गई। जिस वक्त राठेर को बंदूकों की सलामी दी गई, कई लोग अपने आंसू नहीं रोक पाये। दक्षिणी कश्मीर का ये इलाका हिज्बुल मुजाहिदीन का गढ़ माना जाता है। लिहाजा एक सैनिक के लिए लोगों के इस जज्बात से खुद सेना भी हैरान है। इससे पहले श्रीनगर में आर्मी चीफ बिपिन रावत ने भी राठेर को श्रद्धांजलि दी थी।

बहन की होने वाली थी शादी
35 साल के मोहिउद्दीन ने पिछले महीने ही अपने बेटे आहिल का पहला जन्मदिन मनाया था। अगले महीने उनकी बहन की शादी होने वाली थी। स्थानीय लोगों के मुताबिक मोहिउद्दीन हर किसी की मदद के लिए हमेशा आगे रहते थे। उनके पिता दिमागी बीमारी का शिकार हैं जबकि पिछले साल ही मां का ट्यूमर का ऑपरेशन हुआ था। मोहिउद्दीन हर महीने अपने माता-पिता की दवाइयां भेजा करते थे।

शोपियां में आंतकियों से मुठभेड़ में हुए शहीद
राष्ट्रीय राइफल्स की 44वीं बटालियन में तैनात गुरुवार को शोपियां में आतंकियों का निशाना बने थे। वो साथियों के साथ कुन्गु गांव से एक ऑपरेशन के बाद लौट रहे थे जब कुछ आतंकियों ने उनके काफिले पर हमला कर दिया। हमले में मोहिउद्दीन के साथ उनके दो साथी भी शहीद हुए थे। जिस जगह ये हमला हुआ वो मोहिउद्दीन के घर से बमुश्किल 25 किलोमीटर दूर है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.