देहरादून : 10 अप्रैल 2018 की रात जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए उत्तराखंड के शहीद दीपक नैनवाल की पत्नी ज्योति नैनवाल भारतीय सेना का हिस्सा बनने जा रही हैं. नैनवाल आज ऑफिसर ट्रेनिंग अकादमी चेन्नई में रिपोर्ट करेंगी.
ज्योति ने दिखाई अदम्य इच्छा
ज्योति ने अपने पति की शहादत को एक प्रेरणा के रूप में लिया और सेना में जाने का निर्णय लिया. उनके पति की इच्छा थी कि वो सेना में अधिकारी बनें. इसके लिए उन्होंने काफी मेहनत की है. पति के शहीद होने के बाद ज्योती ने सीमा सुरक्षा बल का फॉर्म भरा था. इसके बाद उन्होंने परीक्षा दी और उनका सेलेक्शन हो गया है. अब वो ट्रेनिंग के लिए चेन्नई जा रही हैं.
परिवार की रगों में है देश प्रेम का जुनून
शहीद दीपक नैनवाल की पत्नी ज्योति के दो बच्चे हैं. बच्चों की उम्र आठ और पांच साल है. ज्योति ने चौथे प्रयास में सबसे कठिन शारीरिक और मनौवैज्ञानिक परीक्षाओं में से एक एसएसबी पास कर अपने ससुरालवालों की परंपरा को जारी रखा, जो तीन पीढ़ियों से सेना में अपनी सेवाएं दे रहे हैं.
वीर भूमि उत्तराखंड की कई वीरांगनाओं ने पहले ही ऐसे कई प्रेरणादायक कदम उठाये हैं. इससे पहले शहीद मेजर विभूति ढौंडियाल की पत्नी निकिता, शहीद शिशिर मल्ल की पत्नी संगीता और शहीद अमित शर्मा की पत्नी प्रिया भी पति की शहादत के बाद भारतीय सेना का हिस्सा बनी थीं.
आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद हुए थे दीपक
दीपक नैनवाल 10 अप्रैल 2018 दक्षिणी कश्मीर के कुलगाम में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान गोलियां लगने से जख्मी हो गए थे. दीपक का इलाज पहले दिल्ली के सेना अस्पताल में किया गया. बाद में उन्हें पुणे भेजा गया था. दीपक ने पुणे में ही इलाज के दौरान 22 मई 2018 को आखिरी सांस ली. 22 मई 2018 को शहीद दीपक नैनवाल का अंतिम संस्कार हरिद्वार में किया गया था.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.