उत्तर प्रदेश की योगी सरकार प्रदेश में लगातार निवेश बढ़ाने और उद्योग धंधे स्थापित करने के प्रयास में जुटी हुई है. उद्यमियों को अब मन मुताबिक सुविधाएं और माहौल मिलने के कारण तेजी से उनका रूझान प्रदेश में निवेश के लिए बढ़ा है. आईटी सेक्टर से लेकर अलग अलग उत्पाद बनाने वाली कंपनिया प्रदेश में अपनी यूनिट लगा रही हैं. इसकी बानगी राजधानी लखनऊ के करीब बाराबंकी जनपद में देखने को मिली है. ब्रिटानिया इण्डस्ट्रीज लिमिटेड बाराबंकी में 300 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है. कंपनी द्वारा उद्यम स्थापना के लिए जमीन खरीद ली गई है और जल्द ही उस पर काम भी शुरू हो जायेगा.
यूपी औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने बताया कि ब्रिटानिया की तरफ से उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में किये जा रहे निवेश से ना सिर्फ प्रदेश का विकास होगा बल्कि लगभग 1000 लोगों के लिए रोजगार का सृजन होगा. साथ ही बेकरी प्रोडेक्ट से संबंधित उद्यम स्थापन से आस-पास के किसानों को भी इसका लाभ मिलेगा. उन्होंने बताया कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में उत्तर प्रदेश में एक स्वस्थ्य व्यवसायिक वातावरण तैयार हुआ है. अपराध के प्रति राज्य सरकार की जीरो टॉलरेन्स की नीति के कारण प्रदेश में कानून और व्यवस्था की स्थिति में बड़े पैमाने पर सकारात्मक परिवर्तन हुआ है. लोगों में भय का माहौल नहीं रहा. बिना डर-भय के निवेशक अब प्रदेश में निवेश कर रहे हैं.
सतीश महाना ने बताया कि कोविड-19 आने के बाद बदलती हुई परिस्थितियों में अनेक नई नीतियों लागू की गई हैं. पिछड़े क्षेत्रों के लिए तुरंत निवेश प्रोत्साहन नीति-2020 के अन्तर्गत प्रदेश के पूर्वांचल, मध्यांचल और बुंदेलखण्ड क्षेत्रों में औद्योगिक विकास के लिए फास्ट ट्रैक मोड में औद्योगिक इकाइयों को आकर्षक प्रोत्साहन प्रदान किये जा रहे है. बुंदेलखण्ड और पूर्वांचल में निजी औद्योगिक की पात्रता सीमा 100 एकड़ से घटाकर 20 एकड़ कर दी गई. साथ ही पश्चिमांचल एवं मध्यांचल में 150 एकड़ से घटाकर 30 एकड़ किया गया है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.