उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मनरेगा के तहत काम करने वाली महिला कर्मियों को छह महीने का मातृत्व अवकाश देने की घोषणा की है. सीएम ने यह घोषणा आज महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी सम्मेलन में की. इसके साथ सीएम ने रोजगार सेवकों को एक बड़ा तोहफा दिया. उन्होंने कहा कि 35,246 ग्राम रोजगार सेवकों को अब दस हजार मानदेय प्रतिमाह मिलेगा. इस दौरान योगी ने ग्रामीण क्षेत्रों में किए गए अपने अलग-अलग विकास कार्यों का उल्लेख किया.
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले डेढ़ वर्ष से अधिक का समय मानवता के लिए कठिनता का रहा है. जीवन आजीविका को बचाने की जद्दोजहद का समय रहा है. सीएम ने कहा कि ग्राम्य विकास विभाग ने 52 लाख महिलाओं को आजीविका मिशन के साथ जोड़ा गया, जिनसे वो सबल बनीं. सीएम ने कहा कि 58 हजार महिलाओं को बैंकिंग सखी के रूप में नियुक्त किया. यह महिला सशक्तिकरण का बड़ा काम था.

मनरेगा के तहत इस साल भी 100 दिन काम देने के लिए संकल्पित: योग
मुख्यमंत्री योगी ने ये बातें मनरेगा में उत्कृष्ट कार्य करने वाले संविदा कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कही. सीएम योगी ने कहा कि कोरोनाकाल में में 62 लाख 25 हजार एक ही दिन में मनरेगा अंतर्गत रोजगार देने का कार्य किया था. ये देश में सबसे ज्यादा का रिकॉर्ड था. सीएम ने आगे कहा कि इस वर्ष मनरेगा के अंतर्गत सरकार 100 दिन के कार्य देने के लिए भी संकल्पित है.
संविदा कर्मियों का भुगतान सीधे खातों में
सीएम ने साथ ही कहा कि मनरेगा संविदा कर्मियों का भुगतान सीधे उनके खाते में किया जा रहा है. महिला संविदा मनरेगा कर्मियों को अब 180 दिन का मातृत्व लाभ देने का अवसर दिया गया है. इस दौरान उनको मानदेय भी दिया जा रहा है. इस दौरान कार्यक्रम में ग्राम्य विकास मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह, मोती सिंह, राज्यमंत्री आनंद शुक्ला, अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिंह व अपर आयुक्त योगेश कुमार भी मौजूद थे.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.