मथुरा: विधानसभा चुनावों में कुछ ही समय शेष रह गया है, जिसके चलते विभिन्न राजनीतिक दलों के दिग्गज नेता चुनावी मैदान में उतर कर अपने प्रत्याशियों को जिताने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं. इसी क्रम में जनपद मथुरा की बलदेव विधानसभा से भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी पूरन प्रकाश के लिए वोट मांगने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह फरह पहुंचें. उन्होंन मंच से सभा को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी जो कहती है वह करती है. समाजवादी पार्टी तुष्टीकरण की राजनीति करती है. मोदी जी के नेतृत्व में भारत जब अंतरराष्ट्रीय मंचों से बोलता है तो दुनिया कान खोलकर सुनती है.
राजनाथ सिंह ने कहा कि मैं जिस धरती पर खड़ा हूं, हमारे आदर्श और प्रेरणा के केंद्र पंडित दीनदयाल उपाध्याय की यह जन्मस्थली है. जो दृष्टि पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने दी थी उसी के आधार पर भारतीय जनता पार्टी पूरे हिंदुस्तान में वह काम कर रही है. उन्होंने कहा कि मैं पंडित दीनदयाल उपाध्याय की स्मृति को नमन करता हूं. रक्षा मंत्री ने कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में सरकार ने अंतरराष्ट्रीय जगत में भारत की मान, प्रतिष्ठा और स्वाभिमान को बढ़ाने का कार्य किया है. आज से कुछ वर्षों पहले भारत जब अंतरराष्ट्रीय मंचों पर बोलता था तो दुनिया उसे हल्के तरीके से लेती थी.
यह कमजोर भारत है, गरीब भारत है, हमारी बातों को जितनी गंभीरता से लेना चाहिए था दुनिया नहीं लेती थी. लेकिन आज मैं दावे के साथ कह सकता हूं आप भी सीना ठोक कर कह सकते हों कि आज का भारत कमजोर भारत नहीं है. भारत आज दुनिया के मंचों पर पर बोलता है, तो सारी दुनिया कान खोलकर सुनती है. यह नया भारत है. दुनिया समझती है कि भारत बोल रहा है. इसका कुछ मतलब हुआ करता है.
राजनाथ सिंह ने कहा कि आपने देखा पूरी और पुलवामा में आज से चार-पांच साल पहले पाकिस्तान से कुछ आतंकवादियों ने आकर हमारे पैरा मिलिट्री फोर्सेज के जवानों पर हमला किए थे. हमारे कई जवान शहीद हुए, उसके बाद हमारे प्रधानमंत्री ने हम दो-तीन लोगों के साथ बैठकर झटपट फैसला किया. उस समय मैं भारत का गृहमंत्री था और आपने उसके बाद देखा हमारे सेना के जवानों ने पाकिस्तान की धरती पर जाकर आतंकवादी ठिकानों का पता लगाकर विजय हासिल की. हमने सारी दुनिया को साफ संदेश दे दिया भारत कमजोर भारत नहीं है. दुनिया की कोई ताकत हमारी तरफ आंख उठाकर देखने की जरूरत करेगी तो हम इस पार भी जाकर मार सकते हैं और जरूरत पड़ी तो उस पार भी जाकर मार सकते हैं.
यह है भारत की ताकत. लेकिन हमारी राजनीतिक पार्टियों को बात ही समझ में नहीं आ रही है. अभी दो-तीन दिन पहले आपने टेलीविजन के पर्दे पर सुना होगा राहुल गांधी कह रहे थे भारत और चीन के बीच गलवान मैं जो संघर्ष हुआ था, उसमें भारत सेना के कई जवान मारे गए. लेकिन चीन के केवल तीन चार जवान मारे गए. चीन का सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने लिख दिया राहुल जी ने उस बात को सही मान लिया. लेकिन आपको इस बात की जानकारी जो भारत और चीन के जवानों के बीच में गलवान में संघर्ष हुआ था चीन के 48 से लेकर 50 जवान मारे गए थे, दो चार जवान नहीं मारे गए थे.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.