आईपीएलके अगले सीजन में दो नई टीमें दिखेंगी. टीमों के लिए हुई नीलामी के बाद ये तय हो गया है कि यह दो नई टीमें लखनऊ और अहमदाबाद से होंगी. लखनऊ की फ्रेंचाइजी के मालिक होंगे संजीव गोयनका जो पहले राइजिंग पुणे सुपरजाएंट के मालिक रह चुके हैं. टीम आईपीएल में तब खेली थी जब चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स पर बैन लगा था. अब एक बार फिर संजीव गोयनका की टीम आईपीएल में दिखेगी. हालांकि इस टीम के आने के साथ ही बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली सवालों के घेरे में हैं और उनके खिलाफ हितों के टकराव का मुद्दा उठ रहा है.
संजीव गोयनका ने 7,090 करोड़ रुपये में लखनऊ की फ्रेंचाइजी खरीदी. आईपीएल से पहले संजीव के पास इंडियन सुपर लीग की टीम भी है. वह एटीके मोहन बागान के सह-मालिक हैं. उनके अलावा इस टीम में गांगुली भी शामिल हैं. एटीके-मोहन बागान की वेबसाइट के मुताबिक, गांगुली इस टीम के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिल हैं और संजीव इसके चेयरमैन हैं. वेबसाइट पर लिखा है, “टीम का मालिक कोलकाता गेम्स एंड स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड है जिसमें भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली, बिजनेसमैन हर्षवर्धन नोटिया, संजीव गोयनका और उत्सव पारिख हैं.”
हितों के टकराव का मामला
अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी के हवाले से लिखा है, “यह साफ तौर पर हितों के टकराव का मामला है. गांगुली अध्यक्ष हैं उन्हें ये समझने की जरूरत है. यह पहली बार नहीं है कि वह इस तरह की स्थिति में हैं.”
गोयनका-गांगुली ने नहीं दिया जवाब
अखबार ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि जब इस मामले में संजीव गोयनका और गांगुली से फोन पर बात करने की कोशिश की गई तो कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली. वहीं मैसेज का भी कोई जवाब नहीं मिला.
संजीव ने कही ये बात
संजीव गोयनका ने हालांकि सीएनबीसी टीवी 18 पर इस मामले पर अपनी बात रखी. उनसे जब गांगुली से उनके संबंध को लेकर हितों के टकराव के मामले पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि उन्हें (गांगुली) को मोहन बागान से पूरी तरह से अपना नाता तोड़ना होगा.” उनसे जब पूछा गया कि ऐसा कब होगा तो उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि आज.” इसके बाद उन्होंने कहा, “यह सौरव पर है कि वह इसका ऐलान कब करेंगे. माफ कीजिए मैंने पहले से ही अनुमान लगा लिया.”

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.