तमिलनाडु में बुधवार को हुए हेलीकॉप्टर क्रैश पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज संसद को संबोधित किया. उन्होंने लोकसभा में कहा, ‘भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत के साथ 8 दिसंबर की दोपहर को हुए सैन्य हेलीकॉप्टर हादसे की दुर्भाग्यपूर्ण खबर देने के लिए मैं आज गहरी पीड़ा और भारी मन के साथ खड़ा हूं. वायु सेना के एमआई-17 वी5 हेलीकॉप्टर ने कल सुबह (बुधवार को) 11:48 बजे सुलूर एयर बेस से उड़ान भरी थी और दोपहर 12:15 बजे तक वेलिंगटन में इसके लैंड करने की उम्मीद थी. लेकिन उससे पहले ही, सुलूर एयर बेस पर एयर ट्रैफिक कंट्रोल का हेलीकॉप्टर से लगभग 12:08 बजे संपर्क टूट गया.’
राजनाथ सिंह ने कहा, ‘इसके बाद, कुछ स्थानीय लोगों ने कुन्नूर के पास जंगल में आग धधकती देखी. जब वो वहां पहुंचे तब उन्होंने देखा कि सैन्य हेलीकॉप्टर आग की लपटों से घिरा हुआ है. हेलीकॉप्टर के मलबे से बरामद सभी लोगों को वेलिंगटन के सैन्य अस्पताल ले जाया गया. हालांकि नवीनतम रिपोर्टों ने पुष्टि की है कि हेलीकॉप्टर में सवार कुल 14 लोगों में से 13 ने दम तोड़ दिया.’ उन्होंने कहा, ‘इस हादसे में विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान, स्क्वाड्रन लीडर कुलदीप सिंह, जूनियर वारंट ऑफिसर राणा प्रताप दास, जूनियर वारंट ऑफिसर अरक्कल प्रदीप, हवलदार सतपाल राय, नायक गुरसेवक सिंह, नायक जितेंद्र कुमार, लांस नायक विवेक कुमार, लांस नायक बी साई तेजा शहीद हो गए.’

हेलिकॉप्टर हादसे की त्रि-सेवा जांच के आदेश- सिंह
सिंह ने कहा कि मृतकों में सीडीएस की पत्नी मधुलिका रावत, उनके रक्षा सलाहकार ब्रिगेडियर लखबिंदर सिंह लिद्दर, स्टाफ ऑफिसर लेफ्टिनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह और वायु सेना के हेलीकॉप्टर चालक दल सहित 9 सशस्त्र बल कर्मी शामिल हैं. रक्षा मंत्री ने लोकसभा को बताया, ‘भारतीय वायु सेना (IAF) ने सैन्य हेलिकॉप्टर दुर्घटना की त्रि-सेवा जांच के आदेश दिए हैं. जांच का नेतृत्व एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह करेंगे. कल ही जांच टीम वेलिंगटन पहुंची और जांच शुरू की.’ उन्होंने आगे संसद को बताया कि लाइफ सपोर्ट पर चल रहे ग्रुप कैप्टन को बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं.

संसद के दोनों सदनों में रखा गया दो मिनट का मौन
भारतीय वायुसेना के सभी हेलिकॉप्टर दुर्घटना पीड़ितों के पार्थिव शरीर को शाम तक दिल्ली लाया जाएगा. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में अपने बयान में कहा कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत का अंतिम संस्कार पूरे सैन्य सम्मान के साथ किया जाएगा. अन्य सैन्य कर्मियों का अंतिम संस्कार उचित सैन्य सम्मान के साथ किया जाएगा. हेलिकॉप्टर हादसे में शहीद कर्मियों के लिए संसद के दोनों सदनों (लोकसभा और राज्यसभा) में दो मिनट का मौन रखा गया.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.