प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Pm Narendra Modi) ने बौद्ध धर्म के अनुयायियों के एक प्रमुख ‘तीर्थस्थल’ कुशीनगर (Kushinagar) में 260 करोड़ रुपये की लागत से 589 एकड़ में बने अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का बुधवार सुबह उद्घाटन किया. उन्होंने कहा कि कुशीनगर अंतर्राष्‍ट्रीय हवाई अड्डे की ये सुविधा एक प्रकार से बौद्ध समाज की श्रद्धा को अर्पित पुष्पांजलि है.
प्रधानमंत्री अपनी इस यात्रा के दौरान राजकीय मेडिकल कॉलेज समेत 12 अन्य परियोजनाओं का भी शिलान्यास और लोकार्पण किया. कार्यक्रम के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत कई राजनेता मौजूद रहे.
‘भगवान बुद्ध से जुड़े स्थानों को विकसित करने का काम कर रही सरकार’
पीएम मोदी ने कहा, ‘भगवान बुद्ध से जुड़े स्थानों को विकसित करने के लिए, बेहतर कनेक्टिविटी के लिए, श्रद्धालुओं की सुविधाओं के निर्माण पर भारत द्वारा आज विशेष ध्यान दिया जा रहा है. कुशीनगर का विकास, यूपी सरकार और केंद्र सरकार की प्राथमिकताओं में है.’उन्होंने नए हवाई मार्गों के बारे में जानकारी दी. पीएम ने कहा, ‘उड़ान योजना के तहत बीते कुछ सालों में 900 से अधिक नए रूट्स को स्वीकृति दी जा चुकी है, इनमें से 350 से अधिक पर हवाई सेवा शुरु भी हो चुकी है. 50 से अधिक नए एयरपोर्ट या जो पहले सेवा में नहीं थे, उनको चालू किया जा चुका है.’
इस दौरान पीएम ने एयर इंडिया का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा, ‘देश का एविएशन सेक्टर प्रोफेशनली चले, सुविधा और सुरक्षा को प्राथमिकता मिले, इसके लिए हाल में एयर इंडिया से जुड़ा बड़ा कदम देश ने उठाया है. ऐसा ही एक बड़ा रिफॉर्म डिफेंस एयरस्पेस को सिविल यूज के लिए खोलने से जुड़ा है.’
कुशीनगर से दिल्ली की हफ्ते में 4 फ्लाइट
केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जानकारी दी कि कुशीनगर से दिल्ली की हफ्ते में 4 फ्लाइट की सेवा 26 नवंबर से शुरू हो जाएगी. इसके बाद आर्थिक राजधानी मुंबई से भी सीधी उड़ान की व्यवस्था करवाई जाएगी.
राज्‍य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों इंटरनेशनल एयरपोर्ट के उद्घाटन, राजकीय मेडिकल कॉलेज के शिलान्यास और 12 अन्य विकास परियोजनाओं की सौगात पाकर कुशीनगर 20 अक्टूबर से विकास की नई उड़ान भरने और अपनी सुदृढ़ पहचान बनाने को तैयार है. इस हवाई अड्डे से जहां तथागत की महापरिनिर्वाण स्थली का ऐतिहासिक गौरव और समृद्ध होगा, वहीं प्रस्तावित मेडिकल कॉलेज 40 लाख लोगों के जीवन में संजीवनी सरीखा उपहार होगा. इसके साथ ही बाढ़ सुरक्षा, सड़क और ज्ञानालयों से जुड़ी परियोजनाएं जिले की खुशहाली बढ़ाएंगी.
नागरिक उड्डयन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि कुशीनगर का अंतरराष्ट्रीय विमानतल 589 एकड़ में 260 करोड़ रुपये की लागत से बना है और इसके एप्रन पर चार बड़े हवाई जहाज एक साथ खड़े हो सकते हैं. प्रदेश के सबसे बड़े रनवे (3200 मीटर) वाले इस विमानतल के शुरू होने के साथ ही पर्यटन विकास, निवेश, रोजगार का बड़ा प्लेटफॉर्म तैयार हो रहा है. साथ ही देश के सांस्कृतिक संबंधों का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और विस्तार होगा.
योगी बोले-पीएम मोदी ने बौद्ध धर्म से जुड़े देशों को जोड़ने का काम किया
उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘यह उत्तर प्रदेश का सौभाग्य है कि प्रधानमंत्री द्वारा उत्तर प्रदेश को तीसरा इंटरनेशनल एयरपोर्ट सौंपा गया है. पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिमोत्तर बिहार के विकास में इस नये हवाई अड्डे का बहुत बड़ा योगदान होगा. इससे न केवल पर्यटन की असीम संभावनाएं उपलब्ध होंगी, बल्कि रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगे.’
मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हम सब जानते हैं कि भगवान बुद्ध से जुड़े सर्वाधिक पावन स्थल उत्तर प्रदेश में हैं और उनसे जुड़ी जितनी संभावनाएं थी, उसका बेहतर उपयोग नहीं हो पाया, लेकिन हम प्रधानमंत्री के आभारी हैं कि उन्होंने बौद्ध सर्किट में पर्यटन की सभी संभावनाओं को आगे बढ़ाने और बौद्ध धर्म से जुड़े देशों को जोड़ने का कार्य किया है.’
उन्होंने कहा था कि कल श्रीलंका का उच्‍च-स्‍तरीय प्रतिनिधिमंडल यहां आएगा, जिसके सदस्यों के स्‍वागत का अवसर राज्य सरकार और कुशीनगर के नागरिकों को मिल रहा है और हम सब ‘अतिथि देवो भवः’ की भावना से उनका स्वागत करेंगे. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने हवाई चप्पल पहनने वालों को भी हवाई यात्रा का अवसर दिलाने का वादा किया था और आज उत्तर प्रदेश देश में सर्वाधिक हवाई अड्डे वाला राज्य बन गया है.
राजकीय मेडिकल कॉलेज का पीएम मोदी ने किया शिलान्यास
इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुशीनगर में 281.45 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले राजकीय मेडिकल कॉलेज का भी शिलान्यास किया. भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता समीर सिंह ने बताया कि मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने 2022-23 के सत्र से यहां एमबीबीएस की 100 सीटों पर प्रवेश सुनिश्चित करने का लक्ष्य तय किया है. इस मेडिकल कॉलेज में 460 की क्षमता का छात्रावास तथा 500 बेड का सभी सुविधाओं से युक्त अस्पताल भी होगा.
प्रधानमंत्री के हाथों से 180.66 करोड़ रुपये की 12 विकास परियोजनाओं का भी शिलान्यास और लोकार्पण हुआ. इन परियोजनाओं में गंडक नदी पर बाढ़ सुरक्षा की आठ परियोजनाएं, स्वदेश दर्शन योजना में बौद्ध सर्किट योजनांतर्गत पर्यटन विकास, राजकीय महाविद्यालय सुकरौली का निर्माण, नवीन संकेत मूक बधिर राजकीय बालिका आवासीय विद्यालय का निर्माण, कसया-रामकोला व रामपुर खुर्द, कोटवा, घुघली मार्ग का चौड़ीकरण तथा सुदृढ़ीकरण का कार्य शामिल है.
गौरतलब है कि कुशीनगर भगवान गौतम बुद्ध की निर्वाण स्थली है और प्रतिवर्ष यहां पर चीन, श्रीलंका, कम्बोडिया, थाईलैंड, जापान, मलेशिया, म्यांमार, कोरिया, लाओस, सिंगापुर, वियतनाम, ताइवान, नेपाल और भूटान के नागरिक आते हैं और पूजा अर्चना करते हैं. बिहार की सीमा पर बसे कुशीनगर की दूरी उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 325 किलोमीटर की है. यहां अन्‍तरराष्‍ट्रीय स्‍तर का विमानतल बनने से देश-विदेश के पर्यटकों को आने में सुविधा होगी.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.