नई दिल्‍ली।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में अपनी संपत्ति और देनदारियों का स्‍वेच्‍छा से खुलासा किया है। 30 जून, 2020 तक पीएम मोदी के पास कुल 2.85 करोड़ रुपए की संपत्ति है। एक साल में उनकी संपत्ति में 36 लाख रुपए का इजाफा हुआ है। 2019 में उनके पास कुल 2.49 करोड़ रुपए की संपत्ति थी। उनकी संपत्ति में यह इजाफा बैंक बैलेंस बढ़ने और बैंक फ‍िक्‍स्‍ड डिपॉजिट का मूल्‍य बढ़ने के कारण हुआ है।
पीएम मोदी पर कोई ऋण नहीं
70 वर्षीय प्रधानमंत्री के ऊपर कोई ऋण बकाया नहीं है। जून अंत तक उनके पास 31,450 रुपए नकद थे। 30 जून, 2020 के मुताबिक पीएम के बचत खाते में 3.38 लाख रुपए जमा हैं। 31 मार्च, 2019 को बैंक खाते में केवल 4,143 रुपए थे। स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया की गांधीनगर ब्रांच में उनकी एक एफडी है, जिसका मूल्‍य 30 जून, 2020 के मुताबिक 1,60,28,039 रुपए है। पिछले वित्‍त वर्ष में इस एफडी का मूल्‍य 1,27,81,574 रुपए था।
गोल्‍ड और रियल एस्‍टेट में निवेश
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास चार सोने की अंगूठियां हैं, जिनका कुल वजन 45 ग्राम है और इनका मूल्‍य 1,51,875 रुपए है। पीएम मोदी के पास किसी भी कंपनी का शेयर नहीं है। उनके पास गांधीनगर में 1.1 करोड़ रुपए मूल्‍य का एक प्‍लॉट और एक मकान है, जिसमें वह अपने परिवार के साथ हिस्‍सेदार हैं। इस अचल संपत्ति पर पीएम मोदी के साथ उनके तीन अन्‍य भाईयों का भी स्‍वामित्‍व है।
पीएम मोदी के पास नहीं है अपनी कार
पीएम नरेंद्र मोदी ने घोषणा की है कि उनके पास अपना कोई वाहन या कार नहीं है। उल्‍लेखनीय है कि पीएम मोदी को हर माह 2 लाख रुपए का वेतन मिलता है।
पीएम मोदी टैक्‍स बचाने के लिए यहां करते हैं निवेश
पीएम मोदी टैक्‍स बचत करने के लिए सबसे ज्‍यादा जीवन बीमा, राष्‍ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) और इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर बांड्स पर भरोसा करते हैं। पीएम मोदी ने राष्‍ट्रीय बचत पत्र में 8,43,124 रुपए का निवेश किया है और उन्‍होंने जीवन बीमा प्रीमियम के तौर पर 1,50,957 रुपए का भुगतान किया है। वित्‍त वर्ष 2019-20 में प्रधानमंत्री के पास 7,61,646 रुपए मूल्‍य के राष्‍ट्रीच बचत पत्र थे और उन्‍होंने 1,90,347 रुपए का प्रीमियम भरा था। पीएम मोदी ने जनवरी 2012 में 20000 रुपए के इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर बांड खरीदे थे, जो अभी परिपक्‍व नहीं हुए हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.