आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर डॉक्टर मनिंद्र अग्रवाल ने कहा है कि कोरोना का पीक अनुमान से कम खतरनाक होगा. उन्होंने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर में एक दिन में आने वाले मामले 4 लाख से अधिक नहीं होंगे. पहले तेजी से बढ़ते मामलों के आधार पर प्रोफेसर अग्रवाल ने अनुमान लगाया था कि कोराना जब पीक पर होगा तब प्रतिदिन 7 लाख के अधिक मामले आ सकते हैं लेकिन मौजूदा स्थिति को देखते हुए उन्होंने कहा है कि कोरोना के पीक आने पर 4 लाख से कम ही केस आने की संभावना है.
प्रोफेसर ने कहा कि कोरोना की पीक अब उतनी भयावह नहीं होगी, जितनी हमें आशंका थी. उन्होंने कहा कि 11 जनवरी के आंकड़ों के मुताबिक लग रहा था कि 23 जनवरी को कोरोना का पीक अधिक होगा और प्रतिदिन 7.2 लाख तक मामले सामने आएंगे. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. मामले पहले से ही कम आ रहे हैं. ऐसे में पहले लगाए गए अनुमान के मुताबिक कम ही केस आने की उम्मीद है.
प्रोफेसर डॉक्टर मनिंद्र अग्रवाल कोरोना के मामले कम आने को लेकर कहा कि इसके पीछे अलग-अलग कारण हो सकते है. उन्होंने कहा कि जनसंख्या में दो ग्रुप हैं. पहला वह ग्रुप है, जिनमें ओमिक्रॉन से लड़ने की इम्यूनिटी कम है. वहीं दूसरा वह ग्रुप है, जिनमें इम्यूनिटी अधिक है. ओमिक्रॉन के केस तेजी से बढ़े है, इसके पीछे पहले ग्रुप को जिम्मेदार माना गया है, जिसे म्यूटेंट ने इस ग्रुप को पहले ही निशाने पर ले लिया. जिसके कारण केस तेजी से बढ़े. और उस ग्रुप के अधिकतर लोग संक्रमित हो चुके हैं. वहीं दूसरे ग्रुप के लोग कम संक्रमित हो रहे हैं, जिससे कोरोना के फैलने की स्पीड भी अब धीमी हो गई है.
उन्होंने आगे बताया, ‘यह स्पष्ट नहीं है कि इनमें से कौन सही है. पहले की वजह से rho में कमी आएगी, जबकि दूसरे की वजह से एप्सिलॉन में कमी आएगी. एक बार जब मॉडल नए ट्रैजेक्ट्री को पकड़ लेता है तो हम इसे बेहतर समझ सकते हैं.’ 10 जनवरी को भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने अपनी टेस्टिंग पॉलिसी में संशोधन किया था. जिसमें कहा गया कि COVID-19 से संक्रमित लोगों के संपर्क में आने वालों की जांच की आवश्यकता नहीं है, जब तक कि उम्र या दूसरी बीमारियों की वजह से वे ‘हाई रिस्क’ की श्रेणी में नहीं आते. ICMR ने कोरोना की अपनी नई एडवाईजरी में ये भी कहा था कि ‘अंतर-राज्यीय घरेलू यात्रा करने वाले व्यक्तियों की भी जांच करने की आवश्यकता नहीं है.’
भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2,58,089 नए मामले
बता दें कि भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2,58,089 नए मामले सामने आए जबकि 385 लोगों की महामारी से मौत हो गई. इसके साथ ही देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,73,80,253 हो गई. वहीं, मौतों का कुल आंकड़ा बढ़कर 4,86,451 हो गया. देश में सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़कर 16,56,341 हो गई है, जो कुल मामलों का 4.43 प्रतिशत है. पिछले 24 घंटों में कोरोना के उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 1,05,964 की वृद्धि दर्ज की गयी. मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 94.27 प्रतिशत है.
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देश में 29 राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों में अभी तक ओमिक्रॉन के 8,209 मामले सामने आए हैं. इनमें से 3,109 लोग ठीक हो चुके हैं. महाराष्ट्र में सबसे अधिक 1,738 मामले सामने आए, इसके बाद पश्चिम बंगाल में 1,672, राजस्थान में 1,276, दिल्ली में 549, कर्नाटक में 548 और केरल में 536 मामले सामने आए हैं.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.