बिहार में शराबबंदी को सख्ती ले लागू कराने के लिए सरकार एक्शन में है. इस बीच विधानसभा परिसर से शराब की खाली बोतलें मिली है. जिसके बाद इसपर राजनीति तेज हो गई है. विपक्ष परिसर में बोतल मिलने के बाद हमलावर है. तो वहीं नीतीश कुमार ने इसे गंभीर मानते हुए तुरंत जांच के आदेश दे दिए हैं. विधानसभा परिसर में शराब की बोतलें मिलने के मामले की जांच का आदेश मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दे दिया है. मुख्यमंत्री के आदेश के बाद इस मामले की जांच डीजीपी और गृह सचिव करेंगे. इस मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सदन में माना है कि परिसर में शराब की बोतलें मिलना गंभीर मामला है.
तेजस्वी ने मांगा सीएम से इस्तीफा
इससे पहले परिसर में खाली खराब की बोतलें मिलने के बाद खूब सियासत हो रही है. नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने इस मामले में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से इस्‍तीफे की मांग तक कर दी है. तेजस्वी ने कहा है कि सीएम की चैंबर से महज सौ मीटर की दूरी पर शराब की बोतलें कैसे मिल रही है. तेजस्वी ने कहा कि वो जहां बैठे हैं, वहीं शराब की बोतलें मिल रही हैं. इसे सीएम को खुद आकर देखना चाहिए. नहीं तो वो बाद में इससे इंकार कर देंगे, और शराब की बोतलों को पानी की बोतल बता देंगे.

तेजस्वी ने कहा जिस विधानसभा में शराबबंदी का संकल्‍प लिया गया था. वहीं शराब की खाली बोतलें मिल रही है. ये शराबबंदी का रियल पिक्‍चर है जो सबके सामने आ गई है. तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार को यह बताना चाहिए कि बिहार विधानसभा में जहां वह बैठे हैं, वहां शराब की बोतलें कैसे पहुंचीं. नीतीश कुमार को नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए तत्काल इस्तीफा देना चाहिए.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.