संयुक्त किसान मोर्चा ने रविवार को घोषणा की कि वह लखीमपुर हिंसा के मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा की बर्खास्तगी और गिरफ्तारी की मांग को लेकर 18 अक्टूबर यानी आज रेल रोको आंदोलन करेगा. केंद्र के तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे कई किसान संगठनों के संयुक्त मंच एसकेएम ने एक बयान में कहा कि जब तक लखीमपुर खीरी मामले में न्याय नहीं मिल जाता प्रदर्शन और तेज होगा. एसकेएम ने कहा कि रेल रोको प्रदर्शन के दौरान सोमवार को दोपहर 10 बजे से चार बजे तक सभी मार्गों पर छह घंटे के लिए रेल यातायात को रोका जाएगा. बयान में कहा गया कि गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त कर गिरफ्तार करने की मांग को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा ने कल राष्ट्रव्यापी रेल रोको कार्यक्रम की घोषणा की है ताकि लखीमपुर खीरी जनसंहार में न्याय मिल सके.
छह घंटे तक जारी रहेगा रेल रोको आंदोलन
मोर्चा ने कहा कि एसकेएम अपने सभी घटकों को 18 अक्टूबर को दोपहर 10 बजे से चार बजे तक छह घंटे तक रेल रोकने का आह्वान करता है. एसकेएम अपील करता है कि यह शांतिपूर्ण और रेलवे की संपत्ति को बिना नुकसान पहुंचाए किया जाए. आंदोलन के चलते यूपी-हरियाणा-पंजाब में प्रशासन सबसे ज्यादा सतर्क है. यूपी के मेरठ जोन के एडीजी राजीव सब्बरवाल मेरठ और आसपास, मेरठ रेंज के आईजी प्रवीण कुमार को गाजियाबाद और यूपी बॉर्डर की जिम्मदारी दी गई है. वहीं अन्य जिलों में भी पुलिस प्रशासन को विशेष सतर्कता बरतने को कहा गया है.
यूपी में यहां होगा प्रदर्शन
भकियू के निवर्तमान जिलाध्यक्ष मनोज त्यागी के अनुसार परतापुर, मेरठ कैंट, कंकरखेड़ा, मेरठ सिटी रेलवे स्टेशन पर रेल रोको आंदोलन चलेगा. वहीं जिलाध्यक्ष के साथ कार्यकर्ता कंकरखेडा फ्लाईओवर के नीचे रेलवे लाइन पर धरना देंगे. देशव्यापी रेल रोको अभियान के तहत मुजफ्फरनगर, खतौली औ बुढ़ाना ब्लॉक रेलवे स्टेशन और शाहपुर ब्लॉक, मंसूर रेलवे स्टेशन, रोहाना में रेल रोको कार्यक्रम होगा. वहीं हापुड़ जिले के सभी कार्यकर्ताओं को सूचना दी गई है कि सोमवार को संयुक्त किसान मोर्चे के आह्वान पर गढ़मुक्तेश्वर रेलवे स्टेशन पर पहुंचने को कहा गया है. वहीं अन्य जिलों में भी भकियू कार्यकर्ताओं, पदाधिकारियों को संदेश दिया गया है.
हरियाणा में भी दिखेगा असर
वहीं हरियाणा में रेल रोको आंदोलन को सफल बनाने के लिए रविवार को किसान संगठनों ने तैयारियों की समीक्षा की. भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष रतन मान ने कहा कि इसके लिए सभी जिलों में कार्यकर्ताओं की ड्यूटी लगाई गई है. वहीं राकेश बैंस ने कहा कि रेल रोको आंदोलन के लिए सभी तैयारियां कर ली गई हैं. तीन अक्टूबर को लखीमपुर में हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी. एसकेएम शुरू से ही अजय मिश्र टेनी को केंद्र सरकार में मंत्रिपरिषद से बर्खास्त कर गिरफ्तार करने की मांग कर रहा है. किसानों का कहना है कि ये साफ है कि अजय मिश्र के मंत्री पद पर रहते हुए मामले में न्याय मिलने की उम्मीद नहीं है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.