सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना के समय केंद्र सरकार ने समय-समय पर गाइडलाइंस जारी की और प्रधानमंत्री जी ने सभी राज्यों के साथ संपर्क बना कर रखा. कोरोना के दौरान हमने सभी श्रमिकों को सुविधाएं दी. इसके साथ पेपर देकर वापस आ रहे छात्रों को घरों तक पहुंचाया. वहीं कोरोना प्रबंधन को लेकर उत्तर प्रदेश देश में मिसाल बना. हमने 18 वर्ष की आयु से ऊपर वाले सभी पात्र लोगों को वैक्सीन लगा दी है. वहीं उत्तर प्रदेश अर्थव्यवस्था में 7वें नंबर से दूसरे स्थान पर आ गया है. इस दौरान हमने व्यापक तौर पर नौकरी औऱ रोजगार देने की कार्रवाई आगे बढ़ाई.  सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश के 40 लाख श्रमिक जो रोजी-रोटी के बाहर गए थे. उन्हें सकुशल लाने का प्रबंधन और उनके भरण-पोषण का पूरा ध्यान हमारी सरकार ने पहली कोरोना वेव में किया था.
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमने कोरोना काल में स्किल मैपिंग का काम किया. एमएसएमई सेक्टर में लोन उपलब्ध कराए. डबल इंजन की बीजेपी सरकार ने उत्तर प्रदेश के लिए काम किया है. उत्तर प्रदेश में सबसे बड़ी समस्या कानून व्यवस्था थी. कोई पुलिस रिफार्म के बारे में सोचता ही नहीं था. पुलिस में बिना भेदभाव के भर्ती ही नहीं होती थी. हमने पुलिस की आधुनिकरण के लिए काम किया. एफएसएल की सुविधा नहीं थी. फॉरेंसिक जांच के लिए हमें दूसरे राज्यों पर निर्भर रहना पड़ता था. अब हम अपनी फॉरेंसिंक जांच लैब बनाने की कार्रवाई करते हैं. पहले जितनी महिला पुलिसकर्मी थीं. आज उससे तीन गुना महिला पुलिसकर्मी काम कर रहीं हैं.
पांच साल से नहीं हुआ कोई दंगा
सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश पहला राज्य है जिसने सीमावर्ती राज्यों में ज्वाइंट पेट्रोलिंग की कार्रवाई की. उत्तर प्रदेश पहला राज्य है जिसमें पिछले पांच सालों में एक भी दंगा नहीं हुआ है. हमने पुलिस रिफार्म को लेकर कोई कसर नहीं छोड़ी. हमने 4 पुलिस कमिश्नरेट स्थापित की. अगर हम एनसीआरबी के डेटा की बात करें तो 2016-17 और 2020-21 के आकंड़ों के अनुसार डकैती की घटनाओं में 58 फीसदी की कमी आई. सीएम योगी ने कहा कि जिस उत्तर प्रदेश में पुलिस रिफार्म एक सपना था, क्योंकि कोई सोचता ही नहीं था. सत्ता में आने के बाद पुलिस राजनीतिक एजेंडा का हिस्सा हो जाता था. हमने डेढ़ लाख पुलिस की निष्पक्ष तरीके से भर्ती का काम पूरा किया.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.