उत्तर प्रदेश में AIMIM सांसद असदुद्दीन ओवैसी की कार पर हुई फायरिंग की घटना पर आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह संसद के दोनों सदनों में बयान देंगे. अमित शाह सोमवार सुबह करीब 11.30 बजे लोकसभा और राज्यसभा में अपना वक्तव्य प्रस्तुत करेंगे. इतना ही नहीं, दोनों सदनों को महान गायिका लता मंगेशकर के सम्मान में एक घंटे के लिए स्थगित कर दिया जाएगा. सुर साम्राज्ञी मंगेशकर का रविवार को निधन हो गया था.
ओवैसी की कार पर मेरठ के एक टोल प्लाजा पर तीन-चार राउंड फायरिंग हुई. एक बयान में ओवैसी ने बताया कि वह पश्चिम उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार के सिलसिले में कार्यक्रम में भाग लेकर मेरठ (Meerut) की तरफ से लौट रहे थे, तभी राष्ट्रीय राजमार्ग 24 के हापुड़-गाजियाबाद खंड पर छिजारसी टोल प्लाजा के पास शाम करीब छह बजे उनकी कार पर गोली चलाई गई. हालांकि इस फायरिंग में कोई घायल नहीं हुआ. उन्होंने लोकसभा (Lok Sabha) में दावा किया कि दो लोगों ने रैकी की थी और उन्हें पता था कि वह मेरठ की तरफ से आ रहे हैं.
छह फुट के फासले से चली गोलियां
लोकसभा में ओवैसी ने कहा, ‘आखिर कौन लोग हैं जो गोली पर भरोसा करते हैं, वोट पर नहीं. कौन लोग हैं, जिन्हें संविधान पर भरोसा नहीं. कौन लोग हैं जो इतनी नफरत पैदा करते हैं. मैं दो बार का विधायक हूं और चार बार का सांसद हूं. टोल पर मेरी गाड़ी रुकती है और छह फुट के फासले से चार गोलियां चलाई जाती हैं.’ उन्होंने कहा, ‘इस नफरत को खत्म करिए. मैं सुरक्षा नहीं चाहता. मुझे ‘ए’ श्रेणी का नागरिक रहना है.’
गौरतलब है कि ओवैसी ने गुरुवार को पश्चिम उत्तर प्रदेश में अपनी गाड़ी पर गोलियां चलने की घटना के बाद ‘Z’ श्रेणी की सुरक्षा देने की सरकार की पेशकश को शुक्रवार को ठुकरा दिया. जिसके जवाब में सरकार ने कहा कि इस घटना के बाद राज्य सरकार गंभीरता से कार्रवाई कर रही है. केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने लोकसभा में यह जानकारी दी थी कि इस घटना के संबंध में गृह मंत्री अमित शाह सोमवार को यानी आज सदन में बयान देंगे. ओवैसी ने शुक्रवार को लोकसभा में कहा, ‘मुझे ‘जेड’ श्रेणी की सुरक्षा नहीं चाहिए. मुझे घुटन के साथ नहीं रहना, मुझे आजाद रहना है. मुझे जिंदा रहना है तो आवाज उठानी है और सरकार के खिलाफ बोलना है.’
ओवैसी को मिली ‘Z’ श्रेणी की सुरक्षा
आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, ओवैसी की कार पर गोलियां चलने की घटना के बाद केंद्र सरकार ने शुक्रवार को ओवैसी को केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के कमांडो के घेरे वाली ‘जेड’ श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराने का फैसला किया. हालांकि AIMIM सांसद ने कहा, ‘वह छह फुट के फासले से चार-चार गोली चलने से डरकर खोमाश बैठने वाले नहीं हैं.’ उन्होंने कहा कि हमलावर किसकी किताबें पढ़कर इतने कट्टर हुए. अगर इस तरह की कट्टरता जारी रही तो दक्षिणपंथी सांप्रदायिकता और आतंकवाद बढ़ेगा.’ बता दें कि ओवैसी की कार पर गोली चलाने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.