कानपुर देहात: पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की विजय रथ यात्रा बुधवार देर शाम कानपुर देहात पहुंची थी. यहां अखिलेश यादव ने बुधवार की रात कानपुर देहात में बिताई. इस दौरान उन्होंने कानपुर देहात मुख्यालय स्थित सर्किट हाउस पर मीडिया से बातचीत की. चाचा शिवपाल सिंह से गठबंधन के सवाल पर अखिलेश ने कहा कि यह समाजवादी लोग तय करेंगे. वहीं अखिलेश ने केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश की योगी सरकार पर जमकर हमला बोला.
उन्होंने कहा कि जिन योजनाओं को लेकर बीजेपी डंका पीट रही है, उनकी जमीनी हकीकत कुछ और है. बीजेपी उज्जवला योजना के माध्यम से गरीबों तक गैस सिलेंडर पहुंचाने की बात कर रही है, लेकिन हकीकत में गैस के बढ़ते दामों की वजह से गरीब गैस सिलेंडर भरवा नहीं पा रहा है और न ही सिलेंडर का उन्हें दर्शन हो पा रहा है.
सपा मुखिया ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने न सिर्फ किसानों को धोखा दिया है, बल्कि युवाओं को भी धोखा दिया है. न तो युवाओं को आज तक रोजगार मिला और न ही किसानों को उनकी मेहनत का फल मिला है. सरकार के गलत फैसलों पर नीतियों की वजह से दिन प्रतिदिन महंगाई चरम सीमा पर पहुंच रही है. सरकार इसकी रोकथाम करने में पूरी तरह से नाकाम साबित हो रही है.
देश में पेट्रोल 100 के पार है और डीजल भी 100 के बाहर होने वाला है. उद्योग के नाम पर बीजेपी के कारखाने लगाने की बात कही थी, लेकिन सत्ता में काबिज होने के बाद यूपी में छोटे कारखाने साबित बड़े कारखाने गायब हो गए व उद्योग के नाम पर केवल यूपी के साथ छल हुआ है.
यूपी में लोगों को बिजली महंगे दामों में मिल रही है, इस सवाल पर अखिलेश ने कहा कि यूपी सहित पूरे देश में बिजली गायब हो रही है. कहीं किसी को बिजली नहीं मिल रही है. ग्रामीण क्षेत्रों में तो और भी बुरा हाल है. वहां के लोगों को बिजली के दर्शन ज्यादा नहीं हो रहे हैं. बुंदेलखंड में अन्ना प्रथा समाप्त होनी चाहिए थी, जिसके लिए करोड़ों रुपये खर्च करने का दावा किया जा रहा है, लेकिन जमीन पर न तो काम दिख रहा है और न ही बीजेपी काम करती दिख रही है.
यूपी में सड़के गड्ढा मुक्त हैं. सड़कों के गड्ढा मुक्त का दावा करने वाली बीजेपी सरकार सड़कों को भूल गई है. बीजेपी ने गंगा मां के साथ भी धोखा किया है. गंगा मां की सफाई करने की बात करने वाली बीजेपी ने पिछले साल से लगाकर अभी तक न तो मां गंगा की सफाई की है और न ही उनकी सुध ली है.
यही नहीं गंगा मां के साथ-साथ यूपी के सभी नदियों को बीजेपी के नेताओं ने गंदा कर दिया है. नदियों को प्रदूषित किया है. साथ ही नदियों को खत्म करने का भी काम बीजेपी कर रही है. इन्हीं धोखो से लोगों को निजात दिलाने के लिए समाजवादी पार्टी ने विजय यात्रा शुरू की है. 2022 में यूपी में बीजेपी का सफाया कर और लोगों की परेशानियों को दूर करने के बाद भी यह यात्रा थमेगी.
प्रेस वार्ता के दौरान सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से ओवैसी को लेकर सवाल किया कि क्या 2022 के विधानसभा चुनाव में ओवैसी पार्टी के लिए नुकसान बन सकते हैं, तो उन्होंने इशारों-इशारों में ओवैसी पर हमला बोला. कहा कि समाजवादी पार्टी का केवल एक ही मकसद है, यूपी में बीजेपी का सफाया करना. वहीं उनका क्या मकसद है, यह देखने वाली बात होगी. वहीं चाचा शिवपाल यादव की सपा में वापसी (गठबंधन) के सवाल पर अखिलेश ने कहा कि चाचा शिवपाल का सम्मान रखा जाएगा और 2022 में समाजवादी पार्टी के साथ दिख सकते हैं, लेकिन यह समाजवादी लोग तय करेंगे.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.