सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले से जुड़े ड्रग्स केस में एनसीबी को एक बाद एक कई अहम सुराग मिलते जा रहे हैं। यही वजह है कि ड्रग्स केस की जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ रही है, कई बॉलीवुड सेलेब्स एनसीबी की रडार पर आते जा रहे हैं। फिलहाल, सुशांत सिंह ड्रग्स मामले में एक ओर जहां रिया मुंबई की भायखला जेल में बंद हैं, वहीं उनका भाई शौविक तलोजा जेल में हैं। इस बीच एनसीबी को रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती का बयान दर्ज करने और जेल जाने की इजाजत मिल गई है।
स्पेशल एडीपीएस अदालत ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी को तलोजा जेल जाने और रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती और सुशांत सिंह राजपूत के कुक दीपेश सावंत का बयान दर्ज करने की इजाजत दे दी है। बता दें कि सुशांत सिंह ड्रग्स मामले में शौविक और दीपेश न्यायिक हिरासत में हैं।
एनसीबी ने अदालत में कहा था कि शौविक चक्रवर्ती ने कई अन्य लोगों के साथ ड्रग्स का लेनदेन किया था। एनसीबी ने शौविक और मिरांडा को हिरासत में लेकर इन दोनों का एक दूसरे से सामना कराया है। काफी पूछताछ के बाद शौविक को नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्स्टेंसिस (एनडीपीएस) कानून की विभिन्न धाराओं के तहत रात में गिरफ्तार किया गया था। एनसीबी ने अदालत से कहा था कि अन्य मामले सामने आये हैं जहां परिहार का शौविक और मिरांडा से संपर्क हुआ था।
एनसीबी ने बताया था कि मामले में पहले गिरफ्तार आब्देल बासित परिहार ने शौविक के साथ अपने संपर्कों के बारे में बताया। अदालत को बताया गया था कि शौविक की हिरासत इसलिए भी जरूरी है क्योंकि एनसीबी को अन्य गिरफ्तार आरोपियों के साथ उसका सामना कराना होगा।
एनसीबी राजपूत की मौत के मामले में मादक पदार्थ वाले एंगल से एनडीपीएस कानून की आपराधिक धाराओं के तहत जांच कर रही है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने इस मामले में उसके साथ एक रिपोर्ट साझा की थी। सुशांत राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय और एनसीबी विभिन्न कोणों से जांच कर रहे हैं।
सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में मृत मिले थे। उनकी प्रेमिका रहीं रिया चक्रवर्ती पर उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया था। सीबीआई के एक दल ने मौत के मामले में जांच के सिलसिले में शनिवार को एक बार फिर राजपूत के बांद्रा स्थित फ्लैट का दौरा किया। सीबीआई की टीम के साथ राजपूत के रसोइये नीरज तथा केशव और उनके साथ फ्लैट में रहने वाले सिद्धार्थ पिठानी थे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.