महाराष्ट्र: देश को कोरोना वैक्सीन देने वाली सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के लिए बुरी खबर है. पुणे में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के टर्मिनल गेट 1 के अंदर एसईजेड 3 बिल्डिंग की चौथी और पांचवीं मंजिल पर आग लगी है.  मौके पर दमकल की 10 गाड़ियां पहुंच चुकी है.
हालांकि खबर है कि दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माताओं में से एक सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में जहां कोरोना की वैक्सीन तैयार की जा रही है वो जगह पूरी तरह सुरक्षित है. एबीपी न्यूज़ के बिजनेस एडिटर पीयूष पांडे से बातचीत में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने बताया है कि यह आग एक निर्माणाधीन बिल्डिंग में लगी है और इससे वैक्सीन निर्माण पर कोई असर नहीं पड़ा है.

बता दें कि हाल ही में वैक्सीन बनने के बाद सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में जश्न का माहौल रहा. कर्मचारियों ने साथ इकट्ठा होकर तस्वीरें खिंचवाई, जश्न मनाया. इसमें सीरम इंस्टीट्यूट के प्रमुख अदर पूनावाला भी मौजूद रहे. पूनावाला ने एबीपी न्यूज़ से खास बातचीत की और वैक्सीन को लेकर आगे की प्लानिंग बताई.
वैक्सीन की डिस्ट्रीब्यूशन की प्लानिंग पर पूनावाला ने बताया कि असली चरण अब शुरू होने वाला है. टीम ने मेहनत करके वैक्सीन तो बना ली है, परमिशन भी पा ली है, अब चैलेंज है कि पूरे देश के इसे लोगों तक पहुंचाना है. पूनावाला ने यह भी स्पष्ट किया कि उनकी कंपनी सरकार के संग मिलकर यह प्राथमिकता तय कर रही है कि पहले हेल्थ केयर वर्कर, उम्रदराज लोगों और बीमारियों से ग्रसित लोगों को वैक्सीन दी जाए.
वहीं अब सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) कोरोना वायरस के खिलाफ चार और वैक्सीन पर काम कर रहा है. सीरम इंस्टीट्यूट के कार्यकारी निदेशक सुरेश जाधव ने यह जानकारी दी. जाधव ने एक वेबिनार में बताया कि कंपनी कोविशील्ड समेत कोरोना वायरस के पांच टीके पर काम कर रही है. कोविशील्ड के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है और टीकाकरण अभियान में यह वैक्सीन लगाई भी जा रही है. जाधव ने बताया कि तीन वैक्सीन क्लीनिकल अध्ययन की विभिन्न चरणों में हैं, जबकि एक वैक्सीन अभी ट्रायल के प्री-क्लीनिकल चरण में है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.