Dr Udayहिन्दी संस्थान के अध्यक्ष का नवोन्मेष संस्था व प्रेस क्लब ने किया डा0 उदय प्रताप सिंह का सम्मान

लखनऊ।  प्रदेश के किसी भी साहित्यकार को राज्य हिन्दी संस्थान  से अब किसी तरह की शिकायत नही रहेगी। इस संस्थान के लिए सभी सहित्यकार एक समान है, उनके  बीच में किसी तरह का भेदभाव नहीं होने पाएगा। इसी के साथ संस्था के सम्मान को भी सुरक्षित रखा जाएगा। यह बात मंगलवार को हिन्दी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष डा0 उदय प्रताप सिंह ने नवोन्मेष संस्था एवं प्रेस क्लब द्वारा आयोजित अपने सम्मान समारोह में कही। सम्मान समारोह आयोजन कर्ता संस्थाओं की ओर से डा0 सिंह को अंगवस्त्रम तथा स्मृति चिन्ह भी भेंट किया गया। इस अवसर पर  कवि व संस्कार पत्रिका के मुख्य सम्पादक सर्वेश अस्थाना  ने कहा कि डा0 उदय प्रताप सिंह जैसा निर्भीक सहित्यकार अध्यक्ष होने के बाद अब साहित्यकारों के साथ पक्षपात नहीं होगा।  प्रदेश के सभी साहित्यकारों को उदय जी के हिन्दी संस्थान का अध्यक्ष बनने से गर्व का अनुभव होगा|

सम्मान समरोह में अवधी प्रचारिणी की अलका बाजपेयी तथा दीन दयाल साहित्यिक सेवा संस्थान की ओर से भी डा0 सिंह का अभिनन्दन किया गया। कार्यक्रम में मुकुल महान, डा0 सुमन दुबे, आदित्य द्विवेदी ने भी अपने विचार रखे। इस अवसर पर एक पावस कवि गोष्ठïी का भी आयोजन किया गया जिसमें वहिद अली वाहिद, अभय ङ्क्षसह निर्भय, संजय हमनवा, गौरव दीक्षित मासूम आदि कवियों ने अपनी रचनाओं से श्रोताओं को रसास्वादन कराया। कार्यक्रम के अन्त में प्रेस क्लब के पदाधिकारी जोखू तिवारी व रविन्द्र ङ्क्षसंह ने सभी आगन्तुकों का आभार व्यक्त किया|

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.