शाहजहांपुर में मानवीय संवेदनाओ झकझोर देने का मामला सामने आया है जहां एक बेटी अपने पिता की शिकायत करने पुलिस के पास पहुच गई। जहां बीमार बेटी को   उसके पिता ने खून देने से इन्कार करने की शिकायत  इंस्पेक्टर से की जहां पुलिस ने मानवीयता दिखाते पिता के ऊपर कार्यवाही देने के बजाय ने थाने मे तैनात सिपाही को तत्काल भेजकर बीमार बेटी को खून दिया।  खून मिलने के बाद पिता की शिकायत को भूलकर बेटी ने पुलिस की जमकर तारीफ कर रही है। इस कार्यवाही के एसपी एस आनन्द ने पुलिसकर्मी को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मान दिया है।
मामला थाना अल्लाहगंज इलाके का है जहां रहने वाली 17 वर्षीय लड़की अपनी मां के साथ थाने पहुची थी। बेटी अपने पिता की शिकायत करने के लिए थाने गई जहां इंस्पेक्टर मान बहादुर सिंह ने बेटी की शिकायत सुनी तो वो भी हैरान हो गए। हालांकि हैरानी के साथ साथ इंस्पेक्टर का मन भी भर आया। बेटी ने बताया कि वह पिछले काफी समय से बीमार चल रही है। डाक्टरों ने शरीर मे खून की कमी बताई है। खून की कमी को पूरा करने के लिए पहले तो पिता से कहा था, लेकिन उन्होंने खून देने से साफ इनकार कर दिया। बेटी ने आरोप लगाया कि उसके पिता को मेरी जान की परवाह नही है,इसलिए वह उनकी शिकायत करने के लिए थाने आई है।
वीओ2-शिकायत सुनने के बाद इंस्पेक्टर ने कार्रवाई करने के बजाय सबसे पहले थाने में तैनात पुलिस कर्मी राशिद खान से उनका ब्लड ग्रुप पूछा। सेम ब्लड ग्रुप होने पर पुलिसकर्मी ने तत्काल मेडिकल कॉलेज मे आकर बेटी को खून दिया और उसकी जान बचाई। खून मिलने के बाद पिता की शिकायत को भूलकर बेटी ने पुलिस की जमकर तारीफ कर रही है। इस कार्यवाही के एसपी एस आनन्द ने पुलिसकर्मी को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मान दिया है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.