कानपुर मुठभेड़ के मुख्य आरोपित विकास दुबे के जिंदा पकड़े जाने के बाद शहीद महेश कुमार के परिवार के जख्म एक बार फिर ताजा हो गए। शहीद के बड़े बेटे विवेक नारायण यादव ने कहा कि जैसा मेरे पिता का हाल हुआ वैसा ही विकास के साथ हो। विकास दुबे को मामूली बदमाश नहीं है, बल्कि उसे आतंकी घोषित करके उस पर केस चलाया जाए। शहीद के बेटे ने कहा कि जो भी नेता और पुलिस वाला उसकी मदद कर रहा था, उसे बेनकाब किया जाए।

बता दें,  कानपुर  के चौबेपुर में दो व तीन जुलाई की रात दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमला कर सीओ सहित आठ जांबाजों की हत्या कर दी गई। इस मुठभेड़ में रायबरेली का लाल महेश भी शहीद हो गया। कानपुर कांड का मुख्य आरोपित पांच लाख का इनामी विकास दुबे मध्य प्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार किया। इधर, पुलिस ने विकास दुबे की पत्नी ऋचा और बेटे को लखनऊ में कृष्णनागर नगर स्थित घर से गिरफ्तार किया।

1996 में पुलिस सेवा में हुए थे भर्ती

जिले के थाना क्षेत्र के दस्पुरा बनपुरवा मुजरे हिलौली गांव के रहने वाले महेश कुमार यादव(45) पुत्र देवनारायण वर्ष 1996 में सहारनपुर से पुलिस में भर्ती हुए थे। वर्ष 2014 में दारोगा की परीक्षा में पास हुए तो पहली तैनाती में एसएसपी कानपुर के पीआरओ की जिम्मेदारी मिली। इसके बाद अपनी मेहनत व निष्ठा के बल पर कानपुर नगर के कई थानों में वह तैनात रहे। बीते 2 वर्ष से महेश कुमार कानपुर नगर के शिवराजपुर थाने में तैनात थे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.