लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को सदन में संबोधन दिया. इस दौरान सीएम ने कहा कि बजट हम ऐसे समय लाए हैं जब कोरोना महामारी है. लोग कोरोना से भयभीत हैं, हमने लोगों को वैक्सीन देना शुरू कर दिया है. सभी लोग अलग-अलग तबके के थे, लोग अपनी बारी आने पर वैक्सीन लगवा रहे हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना का असर आम जनमानस पर पड़ा है. लेकिन, सरकार ने भी कोरोना काल में कार्यों को पूरा किया है.
विकास के रोडमैप बनाकर काम किया
सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विपत्ति जब आती है, कायरों को भयभीत कर जाती है. सूरमा विचलित नहीं होते हैं. देश के लिए और प्रदेश के लिए ये बिल्कुल सही बैठती है. उन्होंने कहा कि सपा के समय सरकार का प्रदेश के विकास का कोई दृष्टिकोण नहीं था. पहले की सरकार में प्रदेश के लिए दूरदृष्टि का कोई नजरिया नहीं था. हमने विकास के रोडमैप बनाकर काम किया है. सीएम ने कहा कि स्वास्थ्य क्षेत्र के विशेषज्ञों ने भी बजट की तारीफ की है. जिनको राजनीति से लेना देना नहीं है उन्होंने भी बजट की प्रशंसा की है.
एक्सपोर्ट बढ़ा है
सीएम ने कहा कि मुख्यमंत्री सुपोषण योजना, मुख्यमंत्री सुमंगला योजना उत्तर प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित हुई हैं. पिछले चार साल में वो सभी काम रास्ते पर आ रहे है जो कई सालों से नहीं हुए. उन्होंने कहा कि प्रदेश का एक्सपोर्ट बढ़ा है, रोजगार बढ़ा है. बजट प्रदेश के विभिन्न वर्गों के विकास के लिए आधारित है.
यूपी को बीमारू राज्य कहा जाता था
मुख्यमंत्री ने कहा कि हम जानते हैं कि पहले प्रदेश की क्या हालत थी, मैंने पहले ही कहा था कि वित्तीय अनुशासन का पालन करना होगा और उसका असर दिखने लगा है. पहले प्रदेश को बीमारू राज्य कहा जाता था, क्योंकि 22 करोड़ की आबादी में 2 लाख करोड़ का बजट पहले की सरकार देती थी, जिससे विकास संभव नहीं था. जब बजट ही नहीं होगा तो विकास कैसे होगा.
लोगों के मन में विश्वास पैदा किया है
सीएम ने कहा कि 2015-16 में ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में प्रदेश 14वें स्थान पर था, आज दूसरे स्थान पर है. हमने लोगों के मन में विश्वास पैदा किया है. 2115-16 में उत्तर प्रदेश देश की अर्थव्यवस्था में 5वें नंबर पर थी. जीडीपी 10लाख 90 हजार करोड़ थी. 4 वर्ष के अंदर उत्तर प्रदेश देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है. 4 साल में 21 लाख 73 हजार करोड़ की जीडीपी उत्तर प्रदेश की है.
बिना नाम लिए अखिलेश यादव पर किया हमला
2022 में जब हम वापस आएंगे तो उत्तर प्रदेश देश की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी. पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का नाम लिए बिना सदन में बड़ा हमला करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब वो पहली बार मुख्यमंत्री कार्यालय गए तो पता चला कि पिछले मुख्यमंत्री साल में एक बार ही आते थे.
सदन में हुआ हंगामा
हाथरस की घटना को लेकर सीएम योगी ने कहा कि सोशल मीडिया में चल रहा है. समाजवादी पार्टी की एक रैली थी और वहां पर अपराधी के जरिए पोस्टर लगाए गए थे. उन्होंने कहा कि क्यों जहां अपराध होता है वहां समाजवादी नाम जुड़ जाता है. मुख्यमंत्री के अभिभाषण के दौरान सदन में हंगामा भी हुआ.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.