वाराणसी : जिले के भेलूपुर थाना क्षेत्र में गौरीगंज के निवासी गिरजा शंकर जायसवाल ने एक व‍ीडियो को लेकर विवाद के बाद न्यायालय में गुहार लगाई थी. जिसके बाद कोर्ट के आदेश पर भेलूपुर पुलिस ने 18 लोगों के खिलाफ आईटी एक्ट में मुकदमा किया है. इसमें सबसे चर्चित नाम गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई का है. यह मामला वाराणसी के सांसद और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी करने से जुड़ा है.

यह है पूरा मामला

दरअसल गिरजा शंकर जायसवाल ने लिखित तहरीर बताया कि उन्हें व्हाट्सएप ग्रुप के जरिए एक वीडियो मिला था. जिसमें गाजीपुर के नोनहरा के विशुनपुरा निवासी विशाल गाजीपुरी उर्फ विशाल सिंह और उनकी पत्नी सपना बौद्ध समेत अन्य ने गीत गाया है. इसमें पीएम को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी. इतना ही नही यह वीडियो फेसबुक पर डालकर आर्थिक मदद मांगी जा रही है.
जब गिरजा शंकर ने विशाल गाजीपुरी से इसकी आपत्ति जताई तो उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया गया. गिरजा शंकर ने बताया कि इतना ही नहीं उनका मोबाइल नंबर वीडियो के साथ जोड़कर यू-ट्यूब पर डाल दिया गया. जिसके बाद विशाल के समर्थन में उनके पास लगभग 8000 धमकी भरे कॉल आए. गिरजा शंकर का आरोप है कि इतना सब होने के बाद भी यू-ट्यूब में उस वीडियो को डिलीट नहीं किया गया.
इसके बाद उन्होंने इसकी शिकायत न्यायालय में किया. वहीं अब अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट तृतीय के आदेश पर भेलूपुर पुलिस ने 18 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया. इसमें विशाल, सपना, चंदन, सुजीत गौतम, ह्रदयराज कपूर, सीएस बादल, संजीव कुमार, सूरज कृष्णा, आशीष नायर, एसएन बौद्ध, बीजी म्यूजिक कंपनी, वीके सिंह, पंकज, जय भीम रिकॉर्डिंग स्टूडियो, गूगल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंधक संजय कुमार, कैनेथ होई वाई और सीईओ सुंदर पिचाई शामिल हैं.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.