बेहद दर्दनाक और खौफ़नाक ख़बर है. मुंबई में जिस 34 साल की महिला का बेरहमी से रेप(Mumbai Sakinaka Rape) किया गया था, उन्हें बचाया नहीं जा सका. मुंबई के राजावाडी अस्पताल (Rajawadi Hospital) में उनकी मौत हो गई है. अधिक खून बह जाने की वजह से आज (11 सितंबर, शनिवार) दोपहर 12 बजे मौत हुई है. कल (9-10 सितंबर, शुक्रवार)  मुंबई के अंधेरी में स्थित साकीनाका में मोहन चौहान (Mohan Chauhan) नाम के नराधम ने आधी रात को दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी थी. उसने बलात्कार कर महिला के गुप्तांग में लोहे का रॉड घुसेड़ दी थी.
इस बेरहम और बर्बर शख्स को पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की सहायता से निशानदेही कर गिरफ्तार कर लिया है. जिस टेंपो में बलात्कार हुआ था, उस टेंपों को भी जब्त कर लिया गया है. कल ही बलात्कार के आरोप में केस दर्ज कर लिया गया था. आरोपी पर आईपीसी (IPC) की धारा 307 और 376 के तहत केस दर्ज किया गया था. अब पुलिस (Mumbai Police) ने आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का केस भी दर्ज किया है.
घटना का सीसीटीवी फुटेज सामने आया
इस दरम्यान इस पूरी घटना का सीसीटीवी फुटेज सामने आया है. बेरहम और बर्बर बलात्कारी सीसीटीवी फुटेज में रेप के बाद महिला को बुरी तरह से मारता हुई दिखाई दे रहा है. इसके बाद वह आरोपी महिला को अधमरी अवस्था में टेंपों में रख कर फरार हो जाता है. सीसीटीवी रात का होने की वजह से तस्वीरें साफ नहीं दिखाई दे रही हैं.
मुंबई पुलिस ने कहा कि फिलहाल सीसीटीवी फुटेज से एक ही आरोपी होने की पुष्टि हो पाई है. लेकिन हम जांच कर रहे हैं. अगर हमें पता चलता है कि और भी कोई उसके साथ शामिल रहा है तो हम तुरंत कार्रवाई करेंगे.
केस को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलवाया जाए, आरोपी को फांसी दिलवाई जाए- फडणवीस
इस मुद्दे पर गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटील ने (Dilip Walse Patil, Home Minister of Maharashtra) ने कहा कि वे पुलिस से पल-पल की खबर ले रहे हैं और कड़ी से कड़ी कार्रवाई का आदेश दे चुके हैं. विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis, BJP) ने कहा कि, ‘यह घटना मानवता को कलंकित करने वाली घटना है. दिल्ली की निर्भया की घटना को याद दिलाने वाली घटना है. मेरी मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) से विनती है कि हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश से अपील करके पूरे मामले को वे फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलवाएं. हालांकि सजा देना तो कोर्ट का काम है लेकिन सारे सबूत पेश करके आरोपी को फांसी की सजा दिलाई जाए.
आगे उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में पिछले फिर भी नहीं बदली. यह बेहद ही चिंताजनक है. ‘शक्ति कानून’ के संदर्भ में बोलते हुए देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि वर्तमान कानून के तहत भी सरकार की मानसिकता अगर अपराध को लेकर मजबूत दिखाई दे तो आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जा सकती है. उन्होंने कहा कि मुंबई और महाराष्ट्र पुलिस का एक समय में नाम था आज कानून व्यवस्था का डर खत्म हो गया है.
इस हफ्ते की यह छठी घटना, महाराष्ट्र सरकार इस पर गंभीरता से विचार करे- चंद्रकांत पाटील
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष ने प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर कहा कि, ‘इस हफ्ते में महिलाओं के ख़िलाफ़ अत्याचार की यह छठी घटना है. महाराष्ट्र सरकार को इस पर गंभीरता से विचार करना चाहिए. महाविकास आघाडी सरकार से जुड़े नेता-कार्यकर्ता भी महिलाओं के शोषण के मामलों में सामने आ रहे हैं. आघाडी सरकार के नेता और कार्यकर्ता अगर लिप्त पाए जाते हैं तो पुलिस पर दबाव डाला जाता है. ऐसे लोग जो महिलाओं पर अत्याचार करते हैं, अगर वे बीजेपी के भी हों तो हमारी मांग है कि उनके ख़िलाफ़ कठोर कार्रवाई की जाए. ‘
महिलाओं के ख़िलाफ़ अत्याचार करने वालों को मिला हुआ राज्याश्रय- चित्रा वाघ
बीजेपी की महाराष्ट्र इकाई की उपाध्यक्ष चित्रा वाघ (Chitra Wagh, BJP) ने इस घटना पर आक्रोश व्यक्त करते हुए Tv9 भारतवर्ष डिजिटल से कहा कि, ‘महिलाओं के खिलाफ जिस तरह की हिंसक घटनाएं बढ़ गई हैं, उनसे ऐसा लगता है कि महाविकास आघाडी (Maha Vikas Aghadi) सरकार में महिलाओं के ख़िलाफ़ अत्याचार करने वालों को राज्याश्रय मिला हुआ है. कई लोग केस दर्ज होने के बाद भी आराम से घुमते-फिरते हैं. उनलोगों के अंदर ना कोई डर बाकी  है, ना शर्म बाकी है. कुछ लोगों के खिलाफ एफआईआर तक दाखिल नहीं होता तो हमें पीआईएल दाखिल करना पड़ता है. संजय राठोड (टिक-टॉक स्टार पूजा चव्हाण की मौत का मामला) मामले में यह पूरे राज्य ने यह देखा. वर्तमान में भी महबूब शेख पर आईपीसी की धारा 376 के तहत केस दर्ज है, और वो बाहर घुम रहा है.’
ऐसी दुखद घटनाओं पर राजनीति उचित नहीं- संजय राउत
विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष प्रवीण दरेकर (Pravin Darekar, BJP)  ने कहा कि मुंबई जैसे शहर में इस तरह की घटना हो जाती है. राज्य में कानून व्यवस्था कहां है? राज्य में महिलाओं की सुरक्षा का गंभीर सवाल खड़ा हो गया है. राज्य सरकार जिम्मेदारियों से बच नहीं सकती. बीजेपी  की ओर से हो रहे हमले पर शिवसेना सांसद संजय राउत (Sanjay Raut, Shivsena) ने कहा कि ऐसी दुखद घटनाओं पर राजनीति नहीं होनी चाहिए.
इतनी क्रूरता आती कहां से है, समझ नहीं आता- किशोरी पेडणेकर
शिवसेना नेता नीलम गोरहे (Neelam Gorhe, Shivsena) और मनीषा कायंदे (Manisha Kayande) ने भी फांसी की सज़ा दिलवाए  जाने की मांग की है. नीलम गोरहे ने कहा निर्भया मामले के बाद कानून में सख्ती लाई गई, फास्ट ट्रैक कोर्ट में ऐसे मामले चलाने की व्यवस्था की गई. लेकिन ऐसे लोगों की मानसिकता फिर भी नहीं बदली. मुंबई की मेयर किशोरी पेडणेकर (Kishori Pednekar, Mayor of Mumbai) ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि इतनी क्रूरता आती कहां से है, समझ नहीं आता.
क्या है पूरा मामला?
मुंबई के अंधेरी स्थित साकीनाका इलाके में शुक्रवार को दिल्ली में हुए निर्भया गैंगरेप जैसी घटना सामने आई . सड़क किनारे खड़े एक टेंपो के भीतर एक 34 साल की महिला के साथ रेप किया गया. इसके साथ ही उसके प्राइवेट पार्ट में लोहे की रॉड से हमला किया गया . इस घटना में महिला गंभीर रूप से घायल हो गई. इस घटना को लेकर पुलिस (Mumbai Police) ने कहा कि महिला के साथ हुई ये हिंसक घटना 2012 के ‘निर्भया’ कांड की याद दिलाती है. अधिकारी ने बताया कि घटना के कुछ ही घंटों के भीतर आरोपी मोहन चौहान को गिरफ्तार कर लिया गया.
मुंबई पुलिस ने बताया कि शुक्रवार की सुबह पुलिस नियंत्रण कक्ष को फोन से जानकारी दी गई थी कि खैरानी रोड पर एक शख्स महिला को बुरी तरह से पीट (Women Beaten Badly) रहा है. घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस की टीम तुरंत मौके पर पहुंच गई. जिसके बाद मौके से खून से लथपथ हालत में महिला को तुरंत राजावाडी अस्पताल पहुंचाया गया.  शुरुआती जांच में महिला के साथ रेप की पुष्टि हुई . रेप के बाद बेरहमी से महिला के प्राइवेट पार्ट में लोहे का सरिया घुसेड़ा गया था. इससे अत्यधिक खून बह गया. आज (शनिवार) को इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.